उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की सीबीआई जांच को लेकर मुखर हुआ विरोध प्रदर्शन

लक्ष्मी टाकीज चौराहे से निकले कैंडल मार्च में शामिल हुए सैकड़ो प्रतियोगी, सुभाष चौराहे पर की सभा

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन (यूपीपीएससी) की भर्तियों में धांधली व भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रतियोगी छात्र एक बार फिर मुखर हो गये हैं. यूपी में योगीराज आने के बाद पहली बार प्रतियोगी आयोग की सीबीआई जांच की मांग को लेकर सड़क पर उतरे. एक प्रकार से उनमें लम्बे समय से चली आ रही सीबीआई जांच की मांग के मुद्दे पर सरकार के टालमटोल भरे रवैये को लेकर गुस्सा भी दिखा. इसमें माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड, अधिनस्थ शिक्षा सेवा आयोग लखनऊ समेत अन्य भर्ती संस्थाओं की भी सीबीआई जांच करवाने की मांग शामिल रही.

योगी लाओ सीबीआई

सैटरडे की शाम हाथों में बैनर पोस्टर लिए प्रतियोगी छात्र लक्ष्मी टाकीज चौराहे से कैंडल मार्च में निकले. इस दौरान जगह-जगह रुककर छात्रों ने आयोग व अन्य भर्ती संस्थाओं में व्याप्त भ्रष्टाचार का जोरदार ढंग से विरोध किया और नारेबाजी की. बड़े बड़े पोस्टर और बैनर पर लिखा था आयोग की एक दवाई सीबीआई सीबीआई, आयोग की करो सफाई योगी लाओ सीबीआई.

भारी तादात में पहुंचे

छात्रों की भारी तादात देखकर पुलिस व प्रशासन के अफसर भी एलर्ट मोड में रहे. कैंडल मार्च लेकर सुभाष चौराहे पहुंचे छात्रों ने सभा की. इसमें हॉस्टल, डेलीगेसी, चांदपुर सलोरी, छोटा बघाड़ा, विश्वविद्यालय मार्ग पर रहने वाले छात्र, कोचिंग संस्थानो में पढ़ने वाले प्रतियोगी आदि शामिल रहे. छात्रों ने कहा कि अब जब केन्द्र और प्रदेश में भाजपा की सरकार है, तब सीबीआई जांच को क्यों टाला जा रहा है. चुनाव पूर्व देश के प्रधानमंत्री पीएम नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह समेत भाजपा के सभी बड़े नेता छात्रों को सीबीआई जांच का आश्वासन दे रहे थे.

हर कोई जान रहा करतूत

प्रदर्शन में शामिल वरिष्ठ प्रतियोगी छात्र अशोक पांडेय ने कहा कि आयोग में परीक्षा, परिणाम और भर्ती में घोर अनियमिततायें की गई हैं. आयोग में पद के अयोग्य लोगों को चयन की जिम्मेदारी दी गई. उन्होंने कहा कि हर कोई संवैधानिक संस्था लोक सेवा आयोग की करतूत से वाकिफ है. फिर भी सरकार की चुप्पी समझ से परे है. इस पूरे आन्दोलन की खास बात यह रही कि इसमें केवल पढ़े लिखे प्रतियोगी ही शामिल रहे. छात्रों से चंदा लेकर मोटी कमाई करने वाले कथित प्रतियोगियों को पहले ही प्रदर्शन से दूर रहने की सख्त चेतावनी दे दी गई थी. इससे वे आसपास फटक भी नहीं सके. प्रदर्शन की अगुवाई अमित सिंह, केके सिंह, अखिलेश्वर वर्मा, अमित शुक्ला, रामजस यादव आदि ने की.