- यूनिवर्सिटी की बनाई कमेटी की जांच में सीसीटीवी से छेड़छाड़ की पुष्टि

- कई बार बंद हुए थे कैमरे, वहीं बीच-बीच के डाटा को किया गया इरेज

- सोमवार को जांच कमेटी ने वीसी के सौंपी थी अपनी रिपोर्ट

 

तीन कॉलेज की हुई थ्ाी शिकायत
यूनिवर्सिटी के वीसी के पास एक शिकायत आई जिसमें भटनी देवरिया के रामगुलाम राय महाविद्यालय, बहादुर यादव महाविद्यालय और सिद्धेश्वर शीतल देव महाविद्यालय में धड़ल्ले से नकल की शिकायत हुई थी. शिकायतकर्ता का आरोप था कि यूनिवर्सिटी ने जो निर्देश दिए हैं कि सभी पेपर की सील सीसीटीवी कैमरे के सामने खोली जाए और परीक्षा होने के बाद दोबारा कैमरे के सामने ही सील किया जाए. मैनेजमेंट इसका पालन नहीं कर रह है, वहीं, एग्जाम के समय वह सीसीटीवी कैमरा ऑफ कर दे रहे हैं, जिससे कोई भी हरकत रिकॉर्ड नहीं हो पा रही है.

तीन सदस्यीय कमेटी बनी
वीसी को मामले की जानकारी होने के बाद तीन सदस्यीय कमेटी बनाई. इसमें प्रो. संजीत गुप्ता, प्रो. चंद्रशेखर और डॉ. विनय सिंह को मेंबर बनाया गया. इन सभी मेंबर्स ने सभी कॉलेज में जाकर सभी पहलुओं पर जांच की और उसी के हिसाब से डाटा इकट्ठा किए. कॉलेज की सीसीटीवी फुटेज का डाटा भी उन्होंने वेरिफाई किया. वहां के हालात के हिसाब से जिम्मेदारों ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. अब परीक्षा नियंत्रक और वीसी की मीटिंग के बाद इस संबंध में फैसला लिया जाएगा. इसमें एफआईआर तक दर्ज कराई जा सकती है.