VARANASI

यूपीए सरकार जिस एक राफेल विमान का सौदा 526.10 करोड़ रुपये में कर रही थी, मोदी सरकार ने उस विमान का सौदा 1676.70 करोड़ रुपये में करके अपने उद्योगपति मित्रों को फायदा पहुंचाया है. कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने बुधवार को मीडिया से बात करते हुए यह आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी आधा सच आधा झूठ बोलते हैं. उनको तब से मैं जनता हूं जब वो गुजरात के सीएम और मैं विपक्ष का नेता हुआ करता था. उन्होंने राफेल सौदे में भ्रष्टाचार के लिए रक्षामंत्री की कुर्सी पर चार साल में तीन लोगों को बैठाया. मोदी सरकार जब बनी तब रक्षामंत्री अरुण जेटली थे, राफेल सौदे में गोलमाल देखकर वह जब किनारा किए तो मनोरहर पर्रिकर को बनाया गया. मनोहर पर्रिकर को जब समझ में आया कि राफेल में बड़ा भ्रष्टाचार होने वाला है तो वह गोवा की अल्पमत सरकार का सीएम बनने चले गए. इसके बाद निर्मला सीतारमण को रक्षामंत्री बनाकर राफेल का सौदा किया गया. कहा कि सरकार के भ्रष्टाचार की ग्रैंड मदर साबित होगा राफेल घोटाला.