एसआरएन की आईसीयू से सोमवार की रात में भागा, पेट दर्द की शिकायत पर लाया गया था

सुरक्षा में तैनात दोनों बंदी रक्षकों को किया गया निलंबित, डीआईजी जेल ने किया मौका मुआयना

पहले भी अस्पताल से चकमा देकर फरार हो चुके हैं कई बंदी, बंदी रक्षकों की भूमिका पर भी उठे हैं सवाल

ALLAHABAD: नैनी जेल से एसआरएन लाया गया एक सजायाफ्ता कैदी सोमवार की रात फरार हो गया. उसे पेट दर्द की शिकायत पर अस्पताल लाया गया था. डॉक्टरों ने उसे आईसीयू में भर्ती किया था. उसकी सुरक्षा के लिए दो बंदी रक्षक पहरे पर लगाए गए थे. कैदी के फरार होने की जानकारी मिलते ही जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में दोनों बंदी रक्षकों आशुतोष गुप्ता व अरूण कुमार को निलंबित कर दिया गया है. मंगलवार को डीआईजी जेल ने भी मौका मुआयना किया और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए.

हत्या के मामले में मिली थी सजा

बांदा के अर्तरा थाना क्षेत्र का नंद किशोर पुत्र राम दास हत्या के मामले में नैनी सेंट्रल जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा था. कुछ दिनों पहले उसने पेट दर्द की शिकायत की तो जेल प्रशासन ने एसआरएन हास्पिटल भेजा. यहां डाक्टरों ने उसे आईसीयू वार्ड के बेड नम्बर 15 पर भर्ती किया. उसकी सुरक्षा में तैनात बंदी रक्षकों का कहना है कि सोमवार की देर रात जैसे ही उनको झपकी आई कैदी मौका देखकर फरार हो गया. बंदी रक्षकों को जब उसके फरार होने की जानकारी हुई तो उनके हाथ-पांव फूल गए. उन्होंने पहले तो उसे स्वयं ही उसे ढूढ़ने का प्रयास किया, लेकिन जब उसका पता नहीं चला तो जेल अधीक्षक केदार नाथ को फरारी की जानकारी दी. मंगलवार सुबह डीआईजी जेल संतोष श्रीवास्तव एसआरएन पहुंचे और मामले की जानकारी ली. फरार कैदी की गिरफ्तारी के लिए अधिकारियों ने टीम गठित की है.

हाल फिलहाल की घटनाएं

एसआरएन हास्पिटल में भर्ती कराया गया सजायाफ्ता बंदी युवराज कोरी 27 दिसम्बर 2015 की रात हुआ था फरार. उसे हत्या के जुर्म में जेल लाया गया था.

अक्टूबर में कोर्ट से नैनी जेल ले जाते वक्त दो बंदी मेडिकल चौराहे के निकट हथकड़ी खोलकर चलती बस से कूद गए थे. दोनों को कोरांव से पकड़ कर लाया गया था.

सितंबर में सिपाही से हाथ छुड़ाकर कचहरी के पास से बंदी भाग गया था. पेशी के बाद उसे प्रिजन वैन तक हाथ पकड़ कर लाया जा रहा था.

मऊआइमा का संतोष सिंह चोरी के आरोप में जेल में बंद था. वह जिला कचहरी से ही मौका देख फरार हो गया था.

पिछले साल पेशी के दौरान प्रिजन वैन से दस बंदी हो गए थे फरार

पेश पर आया गदऊ पासी खुल्दाबाद थाने के सामने बच्चा जेल से पेशी के दौरान पुलिस अभिरक्षा से हुआ था फरार