नई दिल्ली (एएनआई)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को जी 20 देशों से कोरोना वायरस से लडऩे के लिए एक ठोस कार्य योजना बनाने का आह्वान किया। बता दें कोविड​​-19 के 90 प्रतिशत मामले सामने आए हैं जिसमें 88 प्रतिशत मृत्यु जी-20 सदस्य देशों में हुई। ये वो देश हैं जो विश्व जीडीपी का 80 प्रतिशत हिस्सा रखते हैं। यही नहीं विश्व की कुल आबादी की 60 प्रतिशत जनसंख्या इन देशों को मिलाकर है। गुरुवार को वीडियो कॉल के जरिए इन देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने मीटिंग की। जिसमें प्रधान मंत्री मोदी ने वैश्विक समृद्धि और सहयोग के दृष्टिकोण से मानव को केंद्र में रखने की आवश्यकता को रेखांकित किया।

मोदी ने स्वास्थ्य प्रणालियों की मजबूती पर दिया जोर

पीएम मोदी ने स्वतंत्र रूप से और खुले तौर पर चिकित्सा अनुसंधान और विकास के लाभों को साझा करने और मानवीय स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों को विकसित करने पर जोर दिया। यही नहीं उन्होंने प्रबंधन प्रोटोकॉल और प्रक्रियाओं को बढ़ावा देने, डब्ल्यूएचओ और अंतर-सरकारी संगठनों को मजबूत बनाने और सुधार करने पर जोर दिया। आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए विशेष रूप से कोविड-19 से उत्पन्न आर्थिक कठिनाइयों को कम करने के लिए एक साथ आने को कहा।

डब्ल्यूएचओ के निर्देशों का पालन हो

विदेश मंत्रालय की एक विज्ञप्ति के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने मानव जाति के सामूहिक कल्याण के लिए नए वैश्वीकरण में मदद करने के लिए नेताओं से आह्वान किया और मानवता के साझा हितों को बढ़ावा देने के लिए बहुपक्षीय मंचों पर ध्यान केंद्रित किया है। इससे पहले, प्रधान मंत्री मोदी ने इस विषय पर सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस के साथ टेलीफोन पर बातचीत की थी। बैठक में, जी 20 नेताओं ने महामारी को रोकने और लोगों की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक उपाय करने पर सहमति व्यक्त की। उन्होंने महामारी के खिलाफ लड़ाई में डब्ल्यूएचओ के जनादेश को मजबूत करने का भी समर्थन किया, जिसमें चिकित्सा आपूर्ति, उपचार, दवाएं और टीके शामिल हैं।

5 ट्रिलियन डॉलर का राहत पैकेज

कोरोना वायरस से लडऩे के लिए त्र20 देशों ने 5 ट्रिलियन डॉलर के राहत पैकेज का भी एलान किया।नेताओं ने स्वैच्छिक आधार पर डब्ल्यूएसओ के नेतृत्व वाले कोविड-19 सॉलिडैरिटी रिस्पॉन्स फंड में योगदान देने पर भी सहमति व्यक्त की। प्रधानमंत्री ने जी 20 के इस असाधारण सत्र को बुलाने के लिए सऊदी अरब के राजा का धन्यवाद किया।

ग्लोबलाइजेशन की नई अवधारणा

इस मीटिंग में पीएम मोदी ने कहा कि कोविड 19 ने वैश्वीकरण की एक नई अवधारणा को देखने का अवसर दिया है। एक यह भी आर्थिक और वित्तीय पहलुओं के अलावा मानवता, जलवायु परिवर्तन और आतंकवाद पर केंद्रित है। मोदी ने G20VirtualSummit के दौरान G20 के नेताओं को संबोधित करते हुए कहा, "कोरोनोवायरस संकट के 3 महीने बाद भी इसकी भयावत जानने में समय लग रहा है और वे अभी भी इस परिमाण के संकट से निपटने के लिए किए गए प्रयासों पर नजर रखे हैं।'

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

International News inextlive from World News Desk