गाजियाबाद (पीटीआई)। India 21 days lockdown: उन प्रवासी श्रमिकों को घर ले जाने के लिए जिला प्रशासन ने 1500 बसों को तैनात किया है जो कोरोनावायरस लॉकडाउन के कारण दिल्ली से लौट रहे थे। अपने मूल जिलों में पहुंचने पर COVID-19 के लक्षणों के लिए उनकी जांच की जाएगी। जिला मजिस्ट्रेट अजय शंकर पांडे ने कहा कि सभी प्रवासी जो यहां पहुंचे थे अपने मूल जिलों को भेज दिए गए हैं। 1500 बसों को सैनिटाइजेशन के बाद सेवा में लगाया गया था। लगभग 2,000 श्रमिक रविवार सुबह लाला कुआं में एकत्र हुए थे। उन्होंने कहा कि बिना किसी खर्च के उन्‍हें अपने घरों तक वापस जाने की सुविधा दी गई है। उन सभी जिलों के अधिकारियों को सूचित किया गया है ताकि जब वे बसों से उतरते हैं तो प्रवासियों का मेडिकल चेकअप हो सके। किसी भी व्‍यक्ति में लक्षण नजर आने पर उन्‍हें अस्‍पताल भेजा जाएगा।

14 दिनों के लिए किया जाएगा क्‍वारंटाइन

केंद्र ने लॉकडाउन के उल्‍लंघन कर यात्रा करने वाले सभी प्रवासी श्रमिकों को 14 दिन के लिए क्‍वारंटाइन करने का आदेश दिया है जिससे कि कोरोनावायरस संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। इस बीच, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने कहा कि वे अतिरिक्‍त सावधानी बरत रहे हैं ताकि लोगों की भीड़ के चलते कोई अप्रिय घटना न घटे। 'दिल्ली सरकार ने घोषणा के बाद हमारी दैनिक जरूरतों के प्रति कोई ध्यान नहीं दिया। हमें आनंदविहार दिल्‍ली स्थित इंटरस्‍टेट बस टर्मिनस के बाहर डीटीसी बसों से उतारा गया। हमारे बिजली और पानी के कनेक्शन काट दिए गए,' इटावा जिले के प्रवासी रामकृपाल यादव ने दावा किया।

Posted By: Inextlive Desk

National News inextlive from India News Desk

inext-banner
inext-banner