मुंबई (आईएएनएस) कोरोना वायरस फैलने के डर से पुलिस व स्वास्थ्य अधिकारियों ने एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी धारावी में लॉकडाउन को और कड़ा कर दिया है। अधिकारियों ने गुरुवार को इस बात की जानकारी दी। 2.25 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में कम से कम 10 इलाकों को लाल झंडी दिखा दी गई है और लोगों की सभी आवाजाही रोक दी गई है, इसके अलावा सभी दुकानों व प्रतिष्ठानों, फल/सब्जी बाजार या विक्रेताओं, फेरीवालों आदि को बंद कर दिया गया है। हालांकि, सिर्फ दवा की दुकानें खुली हैं। बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) क्षेत्र में लोगों को विरोध को कम करने के लिए, जल्द ही आवश्यक सामानों के डोरस्टेप डिलीवरी की योजना सामने लानी वाली है। धारावी निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाली शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ के साथ स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने स्थिति के आकलन के लिए बुधवार को अपने निर्वाचन क्षेत्र के अस्पतालों और संगरोध केंद्रों का दौरा किया।

धारावी में रहते हैं 2 लाख से अधिक परिवार

गायकवाड़ ने गुरुवार को कैबिनेट की बैठक के बाद मीडियाकर्मियों को बताया, 'हमने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख से अनुरोध किया है कि वे इस क्षेत्र में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए पुलिस को लॉकडाउन को सख्ती से लागू करने का निर्देश दें। हमने सरकार से यहां अस्पतालों के लिए अधिक वेंटिलेटर प्रदान करने का भी अनुरोध किया है, साथ ही क्वारंटीन में उन लोगों की टेस्ट रिपोर्ट में भी तेजी लाएं, जो यहां रोजाना आते रहते हैं। धारावी दुनिया का सबसे भीड़भाड़ वाला स्थान है। यहां 200,000 से अधिक परिवार रह रहे हैं और काम कर रहे हैं। इसके अलावा, यहां 20,000 से अधिक बड़े और छोटे व्यवसाय हैं, जो साल भर में 7,000 करोड़ रुपये क राजस्व पैदा करते हैं।

कोरोना से धारावी में अब तक दो लोगों की मौत

बता दें कि धारावी में अब तक कोरोना से दो लोगों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा कम से कम 13 अन्य लोग संक्रमित हैं। यह मुंबई और महाराष्ट्र के बाकी हिस्सों में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए संघर्ष कर रहे नागरिक और राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों के बीच खतरे को बढ़ाते हैं।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk

inext-banner
inext-banner