नई दिल्ली (पीटीआई)आगामी त्योहारों के मद्देनजर, केंद्र ने राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों से शुक्रवार को 21 दिनों तक चलने वाले लॉकडाउन का कड़ाई से पालन करने और किसी भी सामाजिक या धार्मिक सभा व जुलूस की अनुमति नहीं देने को कहा है। एक संचार में, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने यह भी कहा कि किसी भी आपत्तिजनक सामग्री के संचलन के खिलाफ सोशल मीडिया पर उचित सतर्कता बरती जानी चाहिए। शब-ए-बारात गुरुवार को थी, आज गुड फ्राइडे है। बैसाखी, रोंगाली बिहू, विशु, पोइला बोइशाख, पुथंडु, महा विशुबा संक्रांति आदि भी अप्रैल में हैं।

लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर होगी कार्रवाई

संचार में, गृह मंत्रालय ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से अनुरोध किया है कि सार्वजनिक प्राधिकरणों, सामाजिक और धार्मिक संगठनों और नागरिकों के ध्यान के लिए, दिशानिर्देशों के संबंधित प्रावधानों को व्यापक रूप से प्रसारित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन उपायों के किसी भी उल्लंघन के लिए भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के प्रासंगिक दंड प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए। मंत्रालय ने कहा कि जिला प्रशासन को कानून और व्यवस्था, शांति और सार्वजनिक शांति के रखरखाव के लिए सभी एहतियाती और निवारक उपाय करने चाहिए।

पंजाब में लॉकडाउन बढ़ा

इसके अलावा,पंजाब सरकार ने शुक्रवार को कोरोना वायरस लॉकडाउन को 1 मई तक बढ़ा दिया है, ऐसा करने वाला वह ओडिशा के बाद दूसरा राज्य बन गया। यह निर्णय मंत्रिपरिषद की बैठक में लिया गया। पंजाब में पिछले कुछ दिनों में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या में वृद्धि देखी गई है, जिसमें कुल गिनती 11 मौत के साथ 132 हो गई है। इससे पहले दिन में, मीडिया के साथ एक वीडियो कांफ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने संकेत दिया था कि उनकी सरकार लॉकडाउन का विस्तार करने के बारे में गंभीरता से सोच रही है क्योंकि यह समय चल रहा प्रतिबंध उठाने के लिए सही प्रतीत नहीं होता है।

Posted By: Mukul Kumar

National News inextlive from India News Desk

inext-banner
inext-banner