PATNA CITY : भाई-बहन की रक्षा और प्यार का पर्व रक्षाबंधन क्8 अगस्त को है. लेकिन दूर रहने वाले भाइयों को राखी भेजने में बहनों का पसीना छूट रहा है. कारण कूरियर वाले राखी स्वीकार नहीं रहे और झाऊगंज डाकघर में महज एक काउंटर होने से बहनों को निराश लौटना पड़ रहा है.

करीब फ्70 राखियां बुक

झाऊगंज डाकघर की बात करें, तो स्पीड पोस्ट और रजिस्ट्री से डाक भेजने के लिए महज एक काउंटर है. बुधवार को करीब फ्70 लोगों का स्पीड पोस्ट व रजिस्ट्री डाक बुक किया गया. शाम पांच के बजाए छह बजे तक काम किया गया. फिर भी दर्जनों को निराश लौटना पड़ा.यहां तैनात पोस्टमास्टर अशोक कुमार ने बताया कि कोशिश होती है कि कोई नहीं लौटे.

फिर भी सीनियर ऑफिसर से एक सिस्टम की मांग कर एक स्टाफ को लाने को भेजा गया है. यदि आ गया, तो दूसरा काउंटर शुरू कर दिया जाएगा. वैसे स्टाफ की कमी से भी समस्या होती है. विनीता डोकानिया, उषा, अर्चना देवड़ा, रेखा आदि ने बताया कि निजी कूरियर वाला कहीं भी भेजने के लिए राखी स्वीकार नहीं कर रहा है. कोई तो अनाप-शनाप रेट मांग रहा है. धनबाद भेजने के लिए दो राखी का स्पीड पोस्ट में ब्0 है तो कूरियर वाले 70 से 80 रुपया मांग रहे हैं. अव्वल स्वीकार ही नहीं कर रहा है.