- 80 लाख के सोने की हुई चोरी का खुलासा, नौकर समेत चार गिरफ्तार

-हिस्ट्रीशीटर की तलाश जारी, गिरफ्तार एक आरोपी की पत्‍‌नी भी नामजद

चौक के कर्णघंटा में सराफा व्यवसायी गोपाल जी सेठ का सोना उसके नौकर ने ही चोरी कराया था. दरअसल नौकर अपने अपमान का बदला लेना चाहता था. क्राइम ब्रांच और चौक पुलिस की टीम ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. जबकि एक हिस्ट्रीशीटर समेत चार अन्य की तलाश जारी है. इनके कब्जे से 1.04 किलो सोना और 2.43 लाख रुपये भी बरामद किए गए हैं. एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस मामले का खुलासा किया.

तनख्वाह बढ़ाने को कहा तो पीटा

गिरफ्तार संदीप ने बताया कि 22 जून को गोपाल जी के भाई हरिशंकर और बेटे रवि सेठ ने उसकी पिटाई कर दी थी. कसूर सिर्फ इतना था उसने मालिक से तनख्वाह बढ़ाने को कहा था. इसी से नाराज होकर संदीप ने कारखाने के ठीक सामने दुकान चलाने वाले मुकेश सेठ से संपर्क किया. मुकेश सेठ का भाई रूपेश सेठ कोतवाली क्षेत्र का हिस्ट्रीशीटर है और उसके खिलाफ चौक, कोतवाली समेत कई थानों में 32 मुकदमे दर्ज हैं.

चाभी बनवाई, खुली छोड़ दी डिक्की

एसएसपी ने बताया कि संदीप मालिक से बदला लेने की ठान चुका था. उसने मुकेश के साथ न सिर्फ षड्यंत्र रचा. बल्कि चेतगंज निवासी बृजेश उर्फ बाबू जायसवाल और सागर की मदद से स्कूटी की डुप्लीकेट चाभी बनवाई और उन्हें सिमकार्ड भी दिया. वारदात के दिन बृजेश ने स्कूटी से सोना निकाला. कोनिया निवासी मोहित और रूपेश बाइक से गली के बाहर खड़े थे. वारदात के बाद रूपेश ने मुकेश और बाबू को उनके हिस्से का सोना दिया और बाकी माल लेकर फरार हो गया.

चार गिरफ्तार, चार की तलाश

एसएसपी ने बताया कि महाराष्ट्र निवासी संदीप के अलावा कोनिया निवासी मुकेश सेठ, सागर चव्हाण और बृजेश जायसवाल उर्फ बाबू को गिरफ्तार किया गया है. जबकि रूपेश सेठ, उसके भाई बृजेश सेठ, मोहित गुजराती और मुकेश की पत्‍‌नी प्रीति सेठ की तलाश जारी है. गिरफ्तारी में क्राइम ब्रांच प्रभारी विक्रम सिंह, राकेश सिंह, सुमंत सिंह, विवेक मणि त्रिपाठी, कुलदीप सिंह और चौक थाने की पुलिस शामिल रही. एसएसपी ने टीम को 25 हजार रुपये का इनाम दिया.