-आगरा एक्सप्रेस वे पर हादसे में गयी मां-बाप व बेटे के साथ कार ड्राइवर की जान

-नटिनियादाई स्थित शीतल नगर कालोनी में रहने वाला परिवार हुआ हादसे का शिकार

आगरा एक्सप्रेस वे पर शनिवार की भोर में भीषण हादसा हुआ. कार रोड किनारे खड़े डम्पर में घिस गयी. कार में सवार पति, पत्नी और बेटे की जान चली गयी. वहीं बेटी गंभीर रूप से घायल हो गयी. कार चालक की भी मौत हो गयी. हादसे का शिकार हुआ परिवार शिवपुर थाना के नटिनियादाई स्थित शीतल नगर कालोनी में रहता था. कालोनी में पसरे सन्नाटा के बीच मृतकों के परिवार से उठती चित्कार हर किसी को झंकझोर दे रही है.

अरुण सिन्हा (60) मिर्जापुर के जिला उद्योग एवं उद्यान्न प्रोत्साहन केंद्र में अपर सांख्यिकी अधिकारी थे. दो फरवरी को पत्‍‌नी रेखा सिन्हा (58) बेटा अमित सिन्हा (25) व बेटी श्वेता सिन्हा (18) साथ जयपुर की उत्तर प्रदेश सरकार के सूक्ष्म लघु मध्यम उद्यम एवं निर्यात प्रोत्साहन विभाग उत्तर प्रदेश के कालीन दरी के हस्तशिल्पियों का एक्सपोजर विजिट कार्यक्रम में गए थे. वहां से वापसी में पूरा परिवार आगरा रुका. शुक्रवार की शाम को अपर सांख्यिकी अधिकारी परिवार के साथ कार से लौट रहे थे. कार को ड्राइवर रविंद्र विश्वकर्मा चला रहा था. आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर शनिवार की सुबह लगभग साढ़े पांच बजे ऊसराहार थाना क्षेत्र के कौवा रमपुरा गांव के पास खड़े डंपर में कार घुस गई. भीषण भिड़ंत से कार के परखच्चे उड़ गए. हादसे में अपर सांख्यिकी अधिकारी अरुण सिन्हा व पत्‍‌नी रेखा सिन्हा, बेटा अमित सिन्हा और ड्राइवर की मौके पर ही मौत हो गई. सिन्हा परिवार मूल रूप से जौनपुर के मछलीशहर के निवासी थे. ड्राइवर को छोड़कर सभी का शव उनके मूल निवास मछलीशहर ले जाया गया. वहीं शीतलनगर कालोनी के रहने वाले लोग कुछ लोग उनके मूल निवास को प्रस्थान किए. दूसरी ओर मीरापुर बसहीं निवासी कार चालक रवींद्र विश्वकर्मा की मौत की खबर होते ही परिवार में कोहराम मच गया.

वापसी का भेजा भा मैसेज

अरुण सिन्हा समेत परिवार के तीन लोगों और ड्राइवर की मौत की खबर मिलते ही पड़ोसियों सहित शुभचिंतक स्तब्ध हो गए. सभी की जुबां पर यही था कि भरा पूरा परिवार पल भर में उजड़ गया. अरुण सिन्हा की बेटी श्वेता सिन्हा घटना में गंभीर रूप से घायल हो गई है. उसकी रीड़ की हड्डी टूट गई है. इस दर्दनाक हादसे ने पल भर में एक बेटी का भी जीवन खराब कर दिया. पड़ोसी मोती सिंह ने बताया कि सुबह साढ़े तीन बजे उनके पास अरुण सिन्हा का मैसेज आया था कि वे घर वापस आ रहे हैं.