-बढ़ते अपराध की रोकथाम के लिए पुलिस ने चलाया अभियान

-किरायेदारों के सत्यापन को लेकर पुलिस करेगी पूछताछ

-किरायेदारों को बिना आईडी रखने वाले मकान मालिकों पर होगी कार्रवाई

बढ़ते अपराध से पुलिस चिंतित है. तमाम मामले ऐसे सामने आए जिसमें दूसरे प्रदेशों के अपराधी बनारस में शरण लिए मिले. अपराधियों के धरपकड़ और अपराध पर लगाम लगाने के लिए पुलिस घर-घर जाएगी. मकान मालिकों का डिटेल जमा करेगी और किराएदारों का सत्यापन करेगी. बिना आईडी किरायेदारों को ठहराने के जुर्म में मकान मालिकों पर कार्रवाई भी होगी.

पड़ोसी बनेंगे मुखबिर

शहर में आए-दिन हो रही चोरी, छिनैती और टप्पेबाजी की कई घटनाओं की तफ्तीश में पुलिस को मालूम चला है कि दूसरे राज्य से आकर यहां किराये पर रहते हैं और अपराध को अंजाम देकर निकल लेते है. इन पर लगाम लगाने के लिए पुलिस ने घर-घर जाकर सत्यापन करेगी. किसी ने गलत जानकारी दी तो इसका काट भी निकाल लिया गया है. पुलिस पड़ोसियों से भी जानकारी हासिल करेगी. इसके अलावा इलाके के पार्षद सहित अन्य सामाजिक व्यक्तियों से भी जानकारियां हासिल करेगी. इलाके के दुकानदारों और गैस सिलेंडर वितरण करने वाले ट्रॉलीमैन से भी पुलिस ने सम्पर्क किया है. सभी थानों को निर्देशित कर दिया गया है कि अपने-अपने इलाकों के किरायेदारों का सत्यापन शुरू कर दें.

छोड़कर जाए तब भी दें सूचना

शहर के लगभग सभी थानों में किरायेदारों के सत्यापन का कार्य शुरू हो चुका है. मंडुवाडीह, लंका, भेलूपुर, सिगरा, कैंट, लक्सा, दशाश्वमेध आदि थानों में वैरीफिकेशन का काम शुरू है. पिछले दिनों मंडुवाडीह इंडस्ट्रीयल एरिया में काम करने वाले मजदूर से लेकर अन्य की जानकारियां जुटाई गयी थी. मकान मालिकों को यह भी निर्देशित किया गया है कि कोई किरायेदार छोड़कर जाता है तो उसकी सूचना भी पुलिस को जरूर दें.

खास बातें

-किरायेदारों से दो आईडी जरूर लें

-किसके थ्रू किरायेदार आए उनकी भी आईडी रखें

-किरायेदारों के आते ही पुलिस को सूचित करें

-किरायेदारों की गतिविधियां संदिग्ध लगे तो फौरन संबंधित थाना को सूचित करें

-किरायेदारों के हाव-भाव में बदलाव आए तो नजर रखें

किरायेदारों के वैरीफिकेशन को लेकर सभी थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया है. इस दिशा में काम भी हो रहा है.

आनंद कुलकर्णी, एसएसपी