-एक लाख का इनामी बदमाश झुन्ना पंडित पंजाब में अरेस्ट, दो पिस्टल व आठ कारतूस बरामद

-दिव्यांग पान विक्रेता और पाइप कारोबारी का हत्यारोपित

ताबड़तोड़ वारदात को अंजाम देकर दहलाने वाले एक लाख रुपये के इनामी बदमाश झुन्ना पंडित को बनारस पुलिस खोजती ही रही वहीं पंजाब के रुपनगर जिले की रोपण पुलिस ने उसे गिरफ्तार बता दिया. यह नाटकीय गिरफ्तार किसी पच नहीं रही है. चर्चा है कि झुन्ना को पुलिस की गोली से बचाकर सुरक्षित जेल के सलाखों के पीछे पहुंचाने में एक सफेदपोश का हाथ रहा.

वारंट बी का सहारा

पंजाब-हिमांचल के बार्डर रूपनगर जिले में झुन्ना के गिरफ्तार होते ही बनारस पुलिस में हड़कंप मच गया. कैंट और सारनाथ थाना की पुलिस संग क्राइम ब्रांच भी सोचने के लिए मजबूर हो गयी. पुलिस आलाधिकारियोंने आपसी सलाह-मशविरा के बाद वारंट बी के जरिए उसे बनारस ले आने की रणनीति पर मंथन भी किया. जल्द ही पुलिस की एक टीम वारंट बी के जरिए झुन्ना पंडित को बनारस ले आने के लिए पंजाब रवाना होगी.

गिरफ्तारी की बतायी कहानी

पंजाब में झुन्ना पंडित की गिरफ्तारी भले किसी के गले नहीं उतर रही लेकिन वहां की पुलिस इसकी पूरी कहानी बता रही है. उसका कहना है कि पुलिस से अपने को घिरा देख झुन्ना बचने के लिए दोनों हाथ में पिस्टल से ताबड़तोड़ फायरिंग किया. हालांकि पंजाब पुलिस के आगे उसे झुकना पड़ा और हथियार डाल दोनों हाथ ऊपर करते हुए अरेस्ट हो गया. रोपण पुलिस ने झुन्ना के कब्जे से आठ जिंदा कारतूस व .32 बोर की दो पिस्टल बरामद की है.

माउंट आबू में छिपा था

पंजाब पुलिस की पूछताछ में झुन्ना ने कबूल किया कि यूपी में हत्या करने के बाद पुलिस पीछे पड़ी तो वह राजस्थान, जयपुर, नई दिल्ली से लगायत माउंट आबू तक में शरण लिया. गिरफ्तारी से पूर्व वह माउंट आबू में ही छिपा हुआ था. चिंतापूर्णी से नई दिल्ली लौटते समय गुरुवार की रात पुलिस से झुन्ना की मुठभेड़ हुई. पूर्वाचल के एक सफेदपोश से झुन्ना की नजदीकियों पर भी पंजाब पुलिस ने पूछताछ में जानकारी जुटाई.

दिया कई घटनाओं को अंजाम

कैंट थाना के मड़वा में दिव्यांग पान विक्रेता दिलीप पटेल की हत्या

-पहडि़या में पाइप कारोबारी धर्मेद्र गुप्ता की लूटपाट

-सारनाथ के पूर्व प्रधान का अपहरण करके फिरौती

-

-मिर्जापुर तिहरा हत्याकांड में शामिल

-

38 मुकदमें दर्ज

श्रीप्रकाश मिश्र उर्फ झुन्ना पंडित की तलाश पुलिस लगातार कर रही थी.

दिव्यांग की त्या के बाद बनारस पुलिस ने झुन्ना पर एक लाख रुपये का इनाम घोषित कर सरगर्मी से उसकी तलाश में जुटी हुई थी. यूपी-बिहार, दिल्ली और राजस्थान उसका पीछा किया. इसके खिलाफ 38 मुकदमें बनारस समेत विभिन्न जिलों में दर्ज हैं.