क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: नगर निगम सिटी में सफाई अभियान चलाता है. इसके लिए डोर टू डोर वेस्ट कलेक्शन भी किया जाता है. इतना ही नहीं, सुबह में सड़कों पर स्वीपिंग भी कराई जाती है. लेकिन सिटी को गंदा करने में कहीं न कहीं लोग भी जिम्मेवार हैं. आखिर वे डस्टबिन होते हुए भी कचरा डस्टबिन में नहीं डालते. इस वजह से रोड किनारे कचरा बिखरा रहता है. वहीं, कई इलाकों में तो गंदगी का अंबार भी लग गया है. अगर सिटी के लोग अपनी आदतें बदल लें तो हमारे शहर की सूरत ही बदल जाएगी.

..तो दूर होगी गंदगी

थोड़ी दूर चलने से बचने के लिए लोग घरों के सामने ही कचरा रोड पर फेंक देते हैं. जबकि कई इलाकों में कुछ दूरी पर ही नगर निगम के डस्टबिन होते हैं. इसके अलावा वेस्ट कलेक्शन के लिए गाडि़यां भी आती हैं. फिर भी लोग कचरा निकालकर नहीं देते. जब गाडि़यां चली जाती हैं तो घर के बाहर निकलकर कचरा फेंककर चलते बनते हैं. अगर लोग अपनी आदतों को बदल लें और डस्टबिन में व कलेक्शन के लिए आने वाली गाडि़यों में कचरा डाला जाए तो सिटी से गंदगी जरूर कम हो जाएगी.

अपने इलाके की फोटो हमें करें व्हाट्सएप

अगर आपके आसपास इलाके में भी कूड़ेदान नहीं है तो वहां बिखरे कूड़े की तस्वीर भेजें. हम आपकी बात नगर निगम तक पहुंचाएंगे. इसके लिए आप अपने इलाके की फोटोज हमें व्हाट्सएप नंबर 8252907931 पर भेजें. इसमें लोकेशन और एड्रेस भी हो. ये फोटोज हम रांची नगर निगम को भेजेंगे, ताकि वहां की व्यवस्था को दुरुस्त की जा सके.

सिटीजंस निभाए जिम्मेवारी: चंदा

सिटी को साफ रखने की जिम्मेवारी सिटीजंस की भी होती है. केवल नगर निगम अकेले शहर को साफ नहीं कर सकता. यह कहना है रांची की फेमस एक्ट्रेस चंदा मेहरा का. वह अपील करते हुए कहती हैं कि घर से और दुकान से निकलने वाले कचरे को डस्टबिन में ही डालें. निगम की जो गाडि़यां कलेक्शन करने आती हैं उसमें टाइम से कचरा डाल दें तो कचरा जहां-तहां फेंकने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी.

वर्जन

अपर बाजार में दस बजे तो सफाई होती है. देखने से पूरा एरिया चकाचक नजर आता है. लेकिन दुकान खुलते ही सभ्य दुकानदार पूरा कचरा रोड पर डाल देते हैं. इसके बाद वे लोग सारा दोष रांची नगर निगम पर मढ़ देते हैं. ऐसे में लोगों को अपनी आदत बदलनी होगी. ढंग से कचरा डस्टबिन में डालना होगा. वेस्ट कलेक्शन के लिए गाडि़यां आए तो उन्हें कचरा देना होगा. तभी हम बेहतर सर्विस दे सकते हैं.

मनोज कुमार, नगर आयुक्त, रांची