क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: राजधानी में डस्टबिन की कमी है. ऐसे में लोगों के सामने खुले में कचरा फेंकने के अलावा कोई चारा भी नहीं है. इस वजह से कचरे का अंबार लगता जा रहा है. ऐसी ही कुछ तस्वीरें सिटी के अलग-अलग इलाकों से लोगों ने दैनिक जागरण आईनेक्स्ट के साथ शेयर की है. साथ ही नगर निगम के अधिकारियों से रिक्वेस्ट की है कि हुजूर, हमारे इलाके में भी डस्टबिन लगवा दें, ताकि वे लोग भी कचरा जहां-तहां न फेंकें और डस्टबिन में डाल दें.

न्यू नगर, बांधगाड़ी

सिटी में कई नए एरिया डेवलप हो रहे हैं, जहां पर लोग घर बनाकर बसने लगे हैं. ऐसा ही एक इलाका बांधगाड़ी का न्यू नगर भी है, जहां डस्टबिन नहीं होने के कारण लोग कचरा खुले में फेंकने को मजबूर हैं. कई दिनों तक कचरा भी नहीं उठाया जाता है.

गिरजा टोली, डिबडीह

इस एरिया में पब्लिक को देखते हुए डस्टबिन तो लगाए गए हैं. लेकिन वह भी ओवर फ्लो हो जाता है और कचरा फैलने लगता है. कई दिनों तक नगर निगम के लोग कचरा उठाने नहीं आते हैं. ऐसे में कचरे से दुर्गध आने लगती है.

एचबी रोड, कोकर

डस्टबिन था तो अच्छा था. लेकिन वहां पर अब केवल स्टैंड बच गया है. इससे स्थिति खराब हो गई है. लोग स्टैंड के पास कचरा डालकर चले जाते हैं. नगर निगम की गाड़ी भी उठाव नहीं करती है. अगर डस्टबिन लग जाए तो बेहतर होगा.

.......

सफाई को लेकर हर किसी को अपनी जिम्मेवारी समझनी होगी. तब हमें डस्टबिन में कचरा खुद से डालना होगा. लेकिन इसके लिए जरूरी है डस्टबिन भी हर जगह हो. तभी शहर साफ होगा.

मनीषा कुमारी

कहीं भी डस्टबिन लगाने के बाद उसकी सफाई भी जरूरी है. पर नगर निगम की गाड़ी नहीं आती है तो परेशानी और बढ़ जाती है. नगर निगम को चाहिए कि डस्टबिन लगाकर रेगुलर सफाई कराए.

राजू लिंडा

शहर के हर इलाके में डस्टबिन लगने चाहिए. तभी हमारा शहर साफ हो पाएगा. इसलिए शहर को साफ बनाने में नगर निगम को भी अपनी जिम्मेवारी निभानी होगी. हर जगह डस्टबिन भी लगाने होंगे.

रणधीर