JAMSHEDPUR: अब आंधी-पानी में कहीं लाइन कटी या बिजली का तार टूटा तो सुबह होने का इंतजार नहीं करना पड़ेगा. बिजली विभाग की क्विक एक्शन टीम सूचना मिलते ही घटनास्थल की ओर रवाना हो जाएगी. यह निर्देश पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त रविशंकर शुक्ला ने शुक्रवार को दिया. समाहरणालय सभागार में तकनीकी विभागों की बैठक के दौरान उपायुक्त ने बिजली विभाग को कई दिशा-निर्देश दिए.

इसमें कहा गया कि रूरल एरिया में कम से कम 20 घंटे बिजली मिले, यह सुनिश्चित किया जाए.

टोल फ्री नंबर पर करें कंप्लेन

क्विक एक्शन टीम के लिए टोल फ्री नंबर या किसी दूसरे माध्यम से शिकायत प्राप्त करें. एलटी केबलिंग का कार्य जहां-जहां किया जा रहा है, वहां से पुराने केबल हटा लिए जाएं. एग्रीकल्चर फीडर के माध्यम से जिन जगहों पर पावर सप्लाई करना है, उसके लिए संबंधित पंचायत में बैठक कर मुखिया को जिम्मेदारी दें. आज की बैठक में उपायुक्त ने ग्रामीण अभियंत्रण विभाग, लघु सिंचाई, पेयजल, भवन, ग्रामीण विकास विभाग एवं पथ प्रमंडल की समीक्षा की. लघु सिंचाई की समीक्षा के दौरान उपायुक्त ने उपविकास आयुक्त से विमर्श कर छठा लघु सिंचाई गणना के प्रशिक्षण की तिथि तय करने को कहा. वहीं जिला परिषद के माध्यम से जितने भी पंचायत भवनों का निर्माण होना है या जहां किसी कारणवश निर्माण कार्य बाधित है, वहां निर्माण कार्य शुरू कराने का निर्देश दिया. बैठक में उपविकास आयुक्त विश्वनाथ माहेश्वरी, अपर उपायुक्त सौरव कुमार सिन्हा, जिला योजना पदाधिकारी, सभी कार्यपालक अभियंता, सहायक अभियंता, कनीय अभियंता आदि उपस्थित थे.