- भरभराकर गिरी तीन मंजिला इमारत ने अपनी चपेट में लिए कई घर

- दो बच्चे गंभीर घायल, दंपत्ति को आई चोटें

Meerut: लापरवाही का एक बड़ा उदाहरण यह भी है कि ध्वस्तीकरण की जद में आसपास के मकान भी आ गए. एक मकान की छत पर गिरे पिलर ने तबाही मचा दी. छत तोड़कर गिरे पिलर ने दो बच्चों को गंभीर घायल कर दिया तो बच्चों को मलबे से निकालने में दंपत्ति घायल हो गए.

घायल हो गए सेतु और रितिक

तीन मंजिला अवैध इमारत के बराबर में सुनील कुमार का मकान है. सुनील के पुत्र सेतु (15) और रितिक (18) घर पर सो रहे थे. पिता सुनील बुलडोजर की आवाज सुनकर बाहर निकल गए. अभी वे बाहर निकले ही थे कि पोकलेन मशीन के एक ही बार में इमारत भरभराकर गिर गई. किसी आशंका की डर वे घर की ओर भागे. घर का मंजर देखकर उसके होश उड़ गए. बेड पर सो रहे दोनों बेटों के ऊपर एक पिलर आ गिरा. गंभीर घायल बेटों को मलबे से निकालने में सुनील और पत्नी विमलेश भी घायल हो गई. एक अन्य सतीश शर्मा भी पिलर की चपेट में आकर घायल हो गए.

देखा मौत का मंजर

रिषभ एकेडमी में 9वीं के छात्र सेतु और 12वीं के छात्र रितिक ने आई नेक्स्ट ने भय की तस्वीर साझा करते हुए कहा कि 'ऐसा लगा रहा था कि जैसे मौत सिर पर नाच रही है.' भगवान ने बचा लिया. वहीं मां-बाप अपने लाड़लों के सिर से बह रहे खून को देख गश खाकर गिर गए. पड़ोसियों ने संभाला.