4 बजे सुबह से शुरू होगा भगवान शिव का जलाभिषेक

जलाभिषेक के लिए भक्तों को मिलेगा गंगाजल

शिव विवाह की लीला का भी होगा मंचन

Meerut. बुधवार को शहर के मन्दिरों में महाशिवरात्रि का पर्व श्रद्धापूर्वक मनाया जाएगा. मंगलवार देर रात तक मंदिर समितियों ने तैयारियां पूरी कर ली हैं. शहर के शिवालय रंग बिरंगी रोशनी से सजाए जा चुके हैं. वहीं कांवडि़ये भी जल लेकर अपनी मंजिलों पर पहुंच गए हैं. औघड़नाथ मन्दिर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. मन्दिर के मुख्य पुजारी पं. श्रीधर त्रिपाठी ने बताया कि इस बार शिवरात्रि पर महायोग है, एक लाख से लेकर 1.50 लाख तक श्रद्धालु तक बाबा का जलाभिषेक करेंगे.

भक्तों को मिलेगा पर्याप्त गंगा जल

मन्दिर सीमित के कमेटी सदस्य द्वारा हर साल की तरह इस बार भी कमेटी ने बाबा के भक्तों के लिये पर्याप्त मात्रा में गंगा जल की व्यवस्था की है.

पांच विशेष आरती होगी

प्रात 4 बजे.

सायं 6.30 बजे.

रात्रि 11 बजे.

रात्रि 1 बजे.

रात्रि 3 बजे

ऐसे करें पूजा-अर्चना

फूल, फल और पत्ते पेड़ों पर जैसे उगते है. उसी तरह से दाहिने हाथ की हथेली को सीधा करके मध्यमा अनामिका और अंगूठे की सहायता से इस प्रकार चढ़ाये कि फूल, फल का मुख ऊपर की ओर रहे. तुलसीदल को अपनी ओर करके तथा बेल के तीनों पत्ते बिना कटे फटे नीचे औंधा मुख करके चढ़ाने चाहिए. यदि शिवलिंग से पुष्प, फूल, फल, पत्ते हटाने हो तो केवल तर्जनी और अंगूठे का प्रयोग करके उतारें.

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

औघड़नाथ मंदिर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. मंदिर कमेटी के 25 सदस्य, 50 सहयोगी व 8 प्राइवेट गार्ड की भी व्यवस्था की गई है. मंदिर परिसर में आठ सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं. वहीं, मन्दिर सीमिति द्वारा शिव विवाह का मंचन कराया जाएगा.