नई दिल्ली (एएनआई)। देश की राजधानी दिल्ली में आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियां अंतिम पड़ाव में हैं। भाजपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी समेत अन्य सभी दल इस चुनाव में बाजी मारने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं। वहीं दिल्ली विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस नेता और बदरपुर के पूर्व विधायक राम सिंह नेता के अलावा तीन अन्य लोगों ने सोमवार को आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया है। ये नेता मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मौजूदगी में आम आदमी पार्टी में शामिल हुए हैं। सामाजिक कार्यकर्ता जय भगवान, कार्यकर्ता दीपू चौधरी व पूर्व कांग्रेस सांसद महाबल मिश्रा के बेटे विनय मिश्रा अाप में शामिल हुए।


केजरीवाल के काम ने पार्टी में शामिल होने के लिए प्रेरित किया

आम आदमी पार्टी में शामिल होने के तुरंत बाद राम सिंह ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री व आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल के साथ जुड़कर काफी हैं। अरविंद केजरीवाल के काम ने उन्हें पार्टी में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। वहीं विनय मिश्रा ने कहा कि आम आदमी पार्टी लोगों के लिए काम कर रही है। वह सीधे दिल्ली की जनता से जुड़ी है। शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली और पानी पर आम आदमी पार्टी की नीतियों ने लोगों के जीवन में बदलाव किया है।

विधानसभा चुनाव के ऐलान के बाद आदर्श आचार संहिता लागू

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने 14 उम्मीदवारों को अंतिम रूप दिया। सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस आप और भारतीय जनता पार्टी द्वारा उम्मीदवारों की घोषणा करने के बाद ही अपने उम्मीदवारों की सूची का ऐलान करेगी। दिल्ली में आगामी 8 फरवरी को विधानसभा चुनाव आयोजित होंगे और 11 फरवरी को मतगणना होगी। भारतीय चुनाव आयोग ने घोषणा की कि 6 जनवरी को दिल्ली में विधानसभा चुनाव के ऐलान के बाद आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है।

Posted By: Shweta Mishra