BAREILLY:

भाजपा पदाधिकारियों द्वारा डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में व्यवस्थाओं को जायजा लिये जाने को उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या ने जायज ठहराते हुए मोहर लगा दी. यदि किसी भी सरकारी ऑफिस में गलत हो रहा है तो भाजपा कार्यकर्ता उसका विरोध कर सकते हैं. हॉस्पिटल में गलत कार्य होने की सूचना पर ही पदाधिकारियों ने निरीक्षण किया होगा. फिलहाल, हॉस्पिटल में हुए हंगामे का मामला खुद सीएम देख रहे हैं. एक्सपायर दवा, गलत ट्रीटमेंट और घटिया खाना की जांच के आदेश दे दिए हैं. दोषियों पर कार्रवाई होगी.

 

थानों का नहीं हो रहा घेराव

आए दिन भाजपा पदाधिकारियों के नेतृत्व में कार्यकर्ता थानों का घेराव कर उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं. भाजपा के कार्यकर्ताओं द्वारा थानों में हंगामा के सवाल को डिप्टी सीएम ने सिरे से खारिज कर दिया. कहा, कोई भी पार्टी का पदाधिकारी या कार्यकर्ता हंगामा नहीं कर रहा है और न ही घेराव कर जबरन दवाब बना रहा है. कहा कि भाजपा की सरकार है, ऐसे में कार्यकर्ता को अधिकार है, जनता की पीड़ा पर मरहम लगाने का. इसके लिए वह थाना या अन्य किसी भी विभाग में फोन से या खुद वहां पहुंचकर पीडि़त के हक दिला सकता है, जिसे गलत नहीं कहा जा सकता है.

 

तो नप जाएंगे अधिकारी

पिछले दिनों बरेली के 4 विधायकों से करीब 6 बार विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों ने जमकर बहस और बद्तमीजी की थी. अधिकारियों और कर्मचारियों की इन हरकतों के सवाल पर कहा कि कई अधिकारी अभी पुरानी मानसिकता से बाहर नहीं निकल सके हैं. सभी मामले उनके संज्ञान में हैं. आगे से यदि ऐसा गैरजिम्मेदाराना व्यवहार किसी जनप्रतिनिधि, पदाधिकारी या कार्यकर्ता से किसी भी अधिकारी ने किया तो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. सरकार भाजपा की है तो जनता उन्हीं के पास जाएगी इंसाफ के लिए और उनकी मदद भी होगी.

 

भाजपा का कानून व्यवस्था दुरुस्त करने से कोई वास्ता नहीं रहा. ऐसे बयान से कार्यकर्ता अराजक हो जाएंगे. जो करना चाहिए भाजपा वह नहीं कर रही. जनता त्रस्त है. सिर्फ बयानबाजी हो रही है.

शुभलेश यादव, जिलाध्यक्ष, सपा

 

किसी भी पार्टी का कोई भी कार्यकर्ता या आम आदमी किसी भी ऑफिस में काम की जानकारी ले सकता है. हालांकि, इस दौरान शालीनता का परिचय देना चाहिए. सूचना मिली है कि भाजपा ने हंगामा किया यह गलत है.

रामदेव पांडेय, जिलाध्यक्ष, कांग्रेस