फ्लैग : जिले में लॉ एंड ऑर्डर बनाए रखने के लिए पहली बार आबादी के हिसाब से होगी पुलिस की तैनाती, डीजीपी ने जारी किए आदेश

- पुलिस-पॉपुलेशन का यह अनुपात यूएन और राष्ट्रीय मानक से है दोगुना

बरेली. लॉ एंड आर्डर बनाए रखने के लिए थानों में पुलिसकर्मियों की ड्यूटी का नया एलोकेशन तैयार किया गया है. अब इसी के हिसाब से तैनाती की जाएगी. क्राइम रिकॉर्ड और कई रिपोर्टो के आधार पर जिलों की मार्किंग भी की गई है, जिसमें बरेली को ए और संवेदनशील जिले की कैटेगरी में रखा गया. बरेली में लॉ एंड आर्डर बनाए रखने के लिए अब शहर के थानों में 1097 की आबादी पर एक कॉन्सटेबल की तैनाती की जाएगी. हालांकि पुलिस-पॉपुलेशन का यह अनुपात यूएन और राष्ट्रीय मानक से दोगुना है. डीजीपी ने ड्यूटी के मानक तय कर सभी जोन, रेंज व जिलों के पुलिस अफसरों को इसके पालन के निर्देश जारी कर दिए हैं.

बरेली 'ए' कैटेगरी में

75 जिलों की लिस्ट में 14 जिले ए कैटेगरी में रखे गए हैं, जिसमें बरेली भी शामिल है. साथ ही संवेदनशील और सामान्य जिलों की भी श्रेणी भी निर्धारित की गई है. इसमें बरेली संवेदनशील जिलों में है. अब कैटेगरी के आधार पर ही थानों व ऑफिस में पुलिसकर्मियों की ड्यूटी के मानक तय किए गए हैं.

रूरल में 1700 पर एक सिपाही

बरेली के रूरल एरिया के थानों में भी लॉ एंड ऑर्डर के हिसाब से एलोकेशन किया गया है. इसके तहत 1700 की आबादी पर एक सिपाही तैनात होगा. 6 सिपाही की ड्यूटी फिक्स होने पर एक हेड कॉन्सटेबल और 18 सिपाहियों पर एक एसआई तैनात किया जाएगा. संवेदनशील जिलों के शहरी थानों में आठ एसआई, 3 हेड कॉन्सटेबल और 6 सिपाही और रूरल एरिया के थानों में 4 एसआई, 2 हेड कॉन्सटेबल और 2 सिपाही एक्स्ट्रा तैनात किए जाएंगे.

थानों के लिए यह मानक निर्धारित

- ऑफिस में 12-12 घंटे की दो शिफ्ट के लिए 2 एचसी और 2 कॉन्सटेबल.

- संतरी ड्यूटी के लिए 3 सिपाही.

- हवालात ड्यूटी के लिए 1 हेड कॉन्सटेबल और 2 कॉन्सटेबल.

- पैरवी डाक के लिए 2 कॉन्सटेबल.

- मालखाना के लिए 1 हेड कॉन्सटेबल और 1 कॉन्सटेबल

- ट्रेनिंग या लीव रिजर्व के लिए 1 हेड कॉन्सटेबल और 6 कॉन्सटेबल

- 70 अपराधों जिसमें एक आईपीसी व 2 एक्ट की विवेचना पर एक एसआई और एक एचसीपी

जितने पद उतनी तैनाती

जोन, रेंज और जिले के अधिकारियों के एसआई, हेड कॉन्सटेबल और कॉन्सटेबल का एलोकेशन भी फिक्स कर दिया है. जिले में बनी सेल में भी ड्यूटी का मानक फिक्स हो गए हैं. अब पुलिसकर्मी ऑफिस में ड्यूटी लगवाकर आराम नहीं फरमा सकेंगे.

किस ऑफिस में कितने होंगे तैनात

- जोन ऑफिस में 5 एसआई, 6 हेड कॉन्सटेबल और 37 कॉन्सटेबल

- रेंज ऑफिस में 7 एसआई, 4 हेड कॉन्सटेबल और 31 कॉन्सटेबल

- पुलिस ऑफिस और पुलिस लाइन के लिए ए कैटेगरी के बरेली समेत 14 जिलों में 25 एसआई, 14 हेड कॉन्सटेबल और 120 सिपाही

- पुलिस ऑफिस और पुलिस लाइन के लिए बी कैटेगरी के 37 जिलों में 13 एसआई, 14 हेड कॉन्सटेबल और 92 कॉन्सटेबल

- पुलिस ऑफिस और पुलिस लाइन के लिए सी कैटेगरी के 24 जिलों में 11 एसआई, 14 हेड कॉन्सटेबल और 75 कॉन्सटेबल

बरेली जिले के प्रकोष्ठों में तैनाती

-गोपनीय ऑफिस में 6 सिपाही

-रीडर ऑफिस में 1 एसआई, एक एचसी व एक कॉन्सटेबल

-पीआरओ ऑफिस में 1 एसआई व 4 कॉन्सटेबल

-प्रधान लिपिक और एकाउंट ऑफिस में 8 कॉन्सटेबल

-डीसीआरबी में 1 हेड कॉन्सटेबल व 5 कॉन्सटेबल

-सम्मन सेल में 6 कॉन्सटेबल

-न्यायालय प्रकोष्ठ में 1 हेड कॉन्सटेबल व 8 कॉन्सटेबल

-जन शिकायत व आईजीआरएस में 1 एसआई, 1 कॉन्सटेबल व 4 कॉन्सटेबल

-----------------------

बरेली जोन के जिलों की कैटेगरी

ए कैटेगरी : बरेली और मुरादाबाद

बी कैटेगरी : शाहजहांपुर, बदायूं, संभल, रामपुर, बिजनौर.

सी कैटेगरी : में पीलीभीत और अमरोहा.

कौन कितना सेंसिटिव

संवेदनशील : बरेली, मुरादाबाद और संभल जिले.

सामान्य : शाहजहांपुर, बदायूं, पीलीभीत, अमरोहा, रामपुर, बिजनौर.

------------------------

पहली बार आबादी के हिसाब से तैनाती

प्रदेश में अभी तक जिलों और थानों के मुताबिक पुलिसकर्मियों की संख्या तय की जाती थी. लेकिन पहली बार आबादी के आधार पर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी फिक्स की गई है. 2016 के एलोकेशन के मुताबिक, बरेली में 2738 सिपाही होने चाहिए, जबकि मौजूदा समय में सिर्फ 2380 सिपाही हैं. इसके अलावा 458 एसआई और 480 हेड कॉन्सटेबल हैं, जिनकी संख्या लगभग पूरी है.

----------------------

वैसे ये हैं मानक

- यूएन के मुताबिक 454 लोगों पर एक पुलिसकर्मी होना चाहिए

- देश में 547 लोगों पर एक पुलिस वाले की जरूरत, पह है 720 पर एक

- पुलिस-पब्लिक रेश्यो में 50 देशों की सूची में भारत नीचे से दूसरे स्थान पर