- कलेक्ट्रेट परिसर के शस्त्र विभाग में आवेदनकर्ताओं की फिर से उमड़ने लगी भीड़

GORAKHPUR: शस्त्र लाइसेंस पर लगा प्रतिबंध हटने के बाद से ही कलेक्ट्रेट के शस्त्र विभाग में क्वैरी करने वालों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है. लेकिन अभी तक गोरखपुर शस्त्र विभाग में शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन प्रक्रिया ही शुरू नहीं हो सकी है. जबकि शस्त्र विभाग की तरफ से यह दावा किया गया था कि दिवाली बाद आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी.

दिवाली बाद से शुरू होना था आवेदन
बता दें, शस्त्र लाइसेंस के आवेदन के लिए 15 अगस्त से आवेदन प्रक्रिया शुरू किए जाने की बात कही गई थी. लेकिन शासन द्वारा आए नए आवेदन फॉर्म प्रारूप की छपाई न होने का करण अब तक शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू नहीं हो सकी है. हालांकि शस्त्र विभाग के जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारियों का यह दावा था कि दिवाली बाद शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. लेकिन दीवाली और छठ पर्व बीत जाने के बाद भी डीएम की तरफ से शस्त्र लाइसेंस के आवेदन फॉर्म व प्रक्रिया को लेकर संबंधित अधिकारियों संग बैठक भी नहीं की गई. शस्त्र विभाग के कर्मचारी राम सिंह बताते हैं कि शासन के आदेश के मुताबिक, जो नए आवेदन के लिए प्रारूप आए हैं उनमें चेक लिस्ट है. उस प्रारूप में नवीन का नया कॉलम बढ़ा है. ऐसे में जो नए शासनादेश के अनुसार ही आवेदन फार्म की छपाई होगी. लेकिन आवेदन फॉर्म की अनुमति अभी डीएम की तरफ से नहीं मिली है. अनुमति मिलते ही आवेदन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

पूछकर चले जाते हैं
वहीं शस्त्र विभाग में दिवाली बाद सोमवार को पहुंचे रामनरेश, पप्पु, रमेश व वेद व्यास ने बताया कि शस्त्र लाइसेंस के लिए उन्हें आवेदन करना है, लेकिन अभी तक आवेदन फॉर्म नहीं मिल रहा है. जबकि प्रदेश के अन्य जिलों में शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. लेकिन मुख्यमंत्री का जिला है, ऊपर से इतनी लेट आवेदन प्रक्रिया शुरू हो रही है. ऐसे में प्रशासनिक अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं. आवेदन के इच्छुक लोगों का कहना है कि आखिर अभी तक आवेदन फॉर्म की छपाई क्यों नहीं हो सकी, यह भी सवाल खड़ा करता है.

शस्त्र लाइसेंस के आवेदन के लिए डीएम बैठक करेंगे. उनकी अनुमति के बाद आवेदन फॉर्म की छपाई होगी. उसके बाद ही आवेदन किया जा सकेगा.

- अजीत सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट