अभी पूरी तरह शुरू भी नहीं हो पाई है दून हॉस्पिटल की नई बिल्डिंग

हर फ्लोर पर उखड़ रही सीलिंग, हादसों को दे रहे दावत

देहरादून,

राजकीय दून मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल की न्यू ओपीडी ए ब्लॉक के कार्यो की गुणवत्ता की पोल 5 माह में ही खुलने लग गई है. ए ब्लॉक में हर फ्लोर में लगाई गई सीलिंग उतरने लगी है. इतना ही नहीं कई जगह बिजली की फिटिंग उखड़ रही है और दीवारों में सीलन भी नजर आने लगी है. मंडे को दंत रोग विभाग की सीलिंग गिरने के बाद न्यू बिल्डिंग में हुए कार्यो की गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो रहे हैं. ऐसे में कार्यदायी संस्था उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम एक बार फिर कटघरे में है. कॉलेज प्रबंधन ने कंपनी को कार्यो की गुणवत्ता और लापरवाही को लेकर नोटिस भेज दिया है. हालांकि ए ब्लॉक में अभी भी 20 प्रतिशत से ज्यादा का काम बचा हुआ है.

मंडे को गिरी थी सीलिंग

मंडे को दून हॉस्पिटल की न्यू ओपीडी ए ब्लॉक बिल्डिंग के फोर्थ फ्लोर पर दंत रोग विभाग के ओपीडी कक्ष में सीलिंग गिर गई. हालांकि जिस समय यह घटना हुई उस समय इस रूम में डॉक्टर नहीं थे. ट्यूजडे को दैनिक जागरण आई नेक्स्ट की टीम ने ए ब्लॉक में हुए कार्यो का रियलिटी चेक किया तो हर फ्लोर पर कई सीलिंग उखड़ी हुई दिखी. कई जगह सीलिंग टूट भी रही है. इससे यह भी साफ होता है कि कार्य करते समय किस प्रकार की लापरवाही हुई है, ऐसे में गुणवत्ता पर सवाल भी उठ रहे हैं.

हर तरफ अव्यवस्था

ए ब्लॉक में हर तरफ अव्यवस्था है. सीलिंग का काम अधूरा है. बिजली के तार और पाइप खुले छोडे़ हुए हैं, जो कि खतरनाक साबित हो सकते हैं. बिल्डिंग में सीलन भी नजर आने लगी है. फोर्थ और फिफ्थ फ्लोर पर आधे से ज्यादा काम अटका हुआ है.

45 करोड़ पेमेंट, काम अधूरा

दून मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल की नई ओपीडी बिल्डिंग का कार्य 2015 में शुरू हुआ था. निर्माण कार्य उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम को सौंपा गया था. न्यू ओपीडी में ए ब्लॉक बनाया गया है. बीते 5 मार्च को न्यू ओपीडी ए ब्लॉक का इनॉग्रेशन किया गया था, लेकिन 6 मंजिला बिल्डिंग में से 4 मंजिल ही पूरी हो पाईं. इस पूरे कार्य के लिए निर्माणदायी संस्था को 45 करोड़ रुपए का पेमेंट किया जा चुका है. न्यू बिल्डिंग में रजिस्ट्रेशन, डिस्पेंसरी, रेडियोलॉजी, वेटिंग हॉल, मनोरोग, ईएनटी, बाल रोग, चर्म रोग, टीबी एंड चेस्ट, दंत रोग व नेत्र रोग की ओपीडी, शुरू हो चुकी है.

----------

निर्माणदायी संस्था को नोटिस भेजा गया है. अभी ए ब्लॉक में 20 प्रतिशत से ज्यादा काम बचा हुआ है. कार्यो को लेकर कई कम्पलेन आ चुकी है.

डॉ. आशुतोष सयाना, प्रिंसिपल, दून मेडिकल कॉलेज