-आवेदक के घर पर 10 दिन के अंदर डीएल पहुंचाने का रखा गया है समय

-डीएल अप्लीकेंट डेली लगा रहे आरटीओ के चक्कर, अफसर बोल रहे-हम कुछ नहीं कर सकते

-250 से अधिक डीएल हो रहे टेस्ट

-10 दिन में डीएल आवेदक के घर पर भेजने का है समय

-5 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से डीएल एजेंसी को देरी से पहुंचाने पर है जुर्माना का प्रावधान

-20 दिन से अधिक के बाद पहुंच रहे आवेदक के घर डीएल

=================

बरेली: आरटीओ ऑफिस में लंबी लाइन लगना आम बात हो गई है. ऑनलाइन सुविधा के बावजूद उनकी परेशानी कम होने के बजाए बढ़ गई है. क्योंकि रूल्स के मुताबिक अप्लीकेंट के डीएल अप्लाई करने के बाद आरटीओ को 10 दिनों में घर पहुंचाना है, लेकिन एक महीने बाद भी डीएल नहीं पहुंच रहा है. इससे एक ओर उनका चालान कट रहा है तो दूसरी ओर फाइन भी भरना पड़ रहा है. वहीं अप्लीकेंट डेली आरटीओ के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन अफसर का बस एक ही जवाब दे रहे हैं कि डीएल लखनऊ से आना है, हम कुछ नहीं कर सकते हैं.

यह है नियम

अप्लीकेंट की सुविधा के लिए डीएल ऑनलाइन किए गए थे. डीएल पहुंचने में देरी न हो, इसके लिए लखनऊ स्थित हेड ऑफिस से 10 दिन में डीएल भेजने की व्यवस्था की गई थी, जिससे अप्लीकेंट पर डीएल न होने पर कार्रवाई न हो. साथ ही 10 दिन में डीएल न पहुंचने पर प्रति दिन 5 रुपए फाइन वसूलने का प्रावधान है. लेकिन इसके बाद भी डीएल भेजने में लापरवाही की जा रही है.

महीनों से लग रही लाइन

आरटीओ ऑफिस में पिछले दो-तीन महीनों से डीएल न मिलने के लिए लोग चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन आरटीओ अफसर का कहना है कि छुट्टी के चलते डीएल समय से नहीं पहुंच पा रहे हैं. सोचने वाली बात है कि फेस्टिव सीजन तो अभी शुरू हुआ है फिर दो-तीन महीने से प्रॉब्लम क्यों बनी हुई है.

====================

मैने अपना 14 सितम्बर को डीएल के लिए टेस्ट दिया था, बताया कि डीएल 10 दिन में पहुंच जाएगा. लेकिन अभी तक डीएल नहीं पहुंचा. इसीलिए आरटीओ ऑफिस जानकारी करने आया तो कोई सही जानकारी नहीं मिल पा रही है, आखिर डीएल क्यों नहीं पहुंचा.

अमन, कटरा चांद खां

-----------

डीएल के लिए 19 सितम्बर को टेस्ट दिया था. डीएल दस दिन में पहुंच जाना चाहिए. लेकिन अभी तक डीएल नहीं पहुंचा है. अफसरों से पूछा तो बताया गया कि छुट्टियों के चलते देरी हो गई होगी. एक दो दिन में पहुंच जाएगा.

राजीव, पुराना शहर

----------

-डीएल के लिए टेस्ट भी 14 सितम्बर को हुआ था. लेकिन अभी तक डीएल नहीं पहुंचा. अब बाइक चलाने में भी चालान का डर लगता है. लेकिन अब डीएल नहीं पहुंचा बताया गया कि लखनऊ से आता है आफिस से कुछ किया नहीं जा सकता.

सुमित, पुराना शहर

-----------------------

-डीएल के लिए बरेली ऑफिस में तो केवल टेस्ट होता है. डीएल आवेदक के घर पर भेजने की प्रक्रिया तो सेंट्रली लखनऊ से हैं. फेस्टिव सीजन में छुट्टी के चलते देरी हो सकती है.

आरपी सिंह, एआरटीओ प्रशासन