- क्षेत्रीय निदान केंद्र के बाहर करती रही एक्सरे का इंतजार

- डॉक्टर ने रात में ही कर दिया डिस्चार्ज

GORAKHPUR : भूकंप की दहशत हेल्थ सर्विसेज पर भारी पड़ रही है. बीआरडी मेडिकल कॉलेज और डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में मंडे को भी सन्नाटा पसरा रहा. ओपीडी में पेशेंट्स नहीं दिखे तो ऑपरेशन थियेटर में कोई ऑपरेशन नहीं हुआ. डॉक्टर से पूछा गया तो उनका कहना था कि अफवाहों की वजह से ऑपरेशन नहीं किया गया. मंडे को जनरल में तीन और आर्थो ओटी में चार ऑपरेशन किए जाने थे. मरीजों में भूकंप का डर साफ दिख रहा था. वार्ड में एडमिट पेशेंट्स भी घबराए हुए थे.

रात भर जागकर मांगते रहे दुआ

भूकंप के डर से तीमारदारों ने अपने पेशेंट्स को बेड समेत बाहर निकाल लिया. क्षेत्रीय निदान केंद्र के बाहर बेड?डाले पेशेंट्स व तीमारदार रात भर जागते रहे. पेशेंट्स का कहना था कि उन्हें रात भर नींद ही नहीं आई. पूरी रात भगवान से दुआ मांगते रहे कि अब कोई भूकंप न आए. अस्पताल परिसर में खुले आसमान के नीचे बीमार मरीज दर्द से कराह रहे थे, लेकिन उन्हें देखने वाला कोई नहीं था. तीमारदार अपनों को लेकर काफी परेशान रहे. कभी डॉक्टर के पास तो कभी स्टाफ नर्स से इलाज के लिए गुहार लगा रहे थे, लेकिन यहां उनकी सुनने वाला कोई नहीं था.