नई दिल्ली (आईएएनएस)।  इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM)हैकिंग को लेकर अमेरिकी एक्सपर्ट सैयद शुजा ने हाल ही में एक बड़ा खुलासा किया है। सैयद शुजा ने दो दिन पहले वीडियो कॉन्फ्रेंस कर दावा किया था कि भारत में साल 2014 के लोकसभा चुनाव में ईवीएम टेंपरिंग कर गड़बड़ी की गर्इ है। एेसे में उसके इस खुलासे भारतीय राजनीति में भी हड़कंप सा मच गया है।

ईवीएम डिजाइनिंग टीम के साथ सैयद शुजा कभी नहीं जुड़ा

हालांकि उसके इस बयान के बाद ईवीएम बनाने वाली कंपनी इलेक्ट्रॉनिक कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड का कहना है कि 2009 से 2014 के बीच ईवीएम डिजाइनिंग टीम के साथ सैयद शुजा कर्मचारी कभी नहीं जुड़ा। ईसीआईएल के अध्यक्ष और एमडी संजय चौबे ने कल मंगलवार को एक पत्र के जरिए चुनाव आयोग को सूचित किया कि कंपनी के रिकॉर्ड को जांचा गया है।

गोपीनाथ मुंडे जानते थे हैकिंग का सच इसलिए हुर्इ थी हत्या

भारत की राजनीति में हलचल मचाने वाले सैयद शुजा के इस बयान पर चुनाव आयोग ने शुजा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धाराओं के तहत दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज करार्इ है। बता दें कि साेमवार को लंदन से सैयद शुजा ने कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि 2014 के लोकसभा चुनावों में धांधली हुई थी आैर इसी वजह से गोपीनाथ की हत्या कर दी गर्इ थी।

इस बार भी इन राज्यों के चुनाव में बीजेपी की जीत की पक्की थी

गोपीनाथ मुंडे इस बारे में जानते थे। उसने यह भी कहा कि अगर उसकी टीम ने छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में  विधानसभा चुनावों के दौरान भाजपा की आईटी टीम की हैकिंग की कोशिश को बाधित न किया होता तो यहां भी जीत पक्की थी। 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव में भी उसकी टीम ने बीजेपी की कोशिश को फेल कर दिया था तभी आम आदमी पार्टी विजेता बनी।

लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर चुनाव आयोग ने लिया जायजा, बड़े पैमाने पर होंगे तबादले

National News inextlive from India News Desk