- शिक्षामित्रों को उनके ससुराल या पति के निवास स्थान पर समायोजित करने की थी तैयारी

- जिले में शिक्षा मित्रों से भराया गया था अपने ससुराल या पति के निवास वाले स्कूलों का विकल्प

ALLAHABAD: शिक्षामित्रों को उनके घर के पास स्कूलों में समायोजित करने के लिए शिक्षामित्रों से विकल्प भराए गए थे। पति या ससुराल के पास स्थित स्कूलों को विकल्प भरने के साथ ही उनको अपने पति या ससुराल के घर का एड्रेस प्रूफ भी देना था, लेकिन सैकड़ों की संख्या में जिले में शिक्षामित्रों ने अपने घर का एड्रेस प्रूफ नहीं दिया। उसका असर यह दिखा कि बड़ी संख्या में एड्रेस प्रूफ नहीं देने वाले शिक्षामित्रों का विकल्प भरने के बाद भी समायोजन नहीं हो सका। इस संबंध में बीएसए ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजकर ऐसे शिक्षामित्रों के एड्रेस प्रूफ जमा कराने का निर्देश दिया है। जिन्होंने अपने मन चाहे स्कूल में समायोजन के लिए विकल्प भरे है।

150 ने अटकाई समायोजन की प्रक्रिया

जिले में शिक्षामित्रों के उनके घर के पास के स्कूल में समायोजन को लेकर शुरू हुई प्रक्रिया में अब तक करीब 2000 शिक्षामित्रों के समायोजन की प्रक्रिया पूरी हो गई है। बीएसए संजय कुमार कुशवाहा ने बताया कि शिक्षामित्रों को उनके ससुराल या पति के निवास स्थान के पास स्थित स्कूल में समायोजन के लिए विकल्प भराए गए थे। जिसमें से 2000 शिक्षामित्रों ने अपना विकल्प भरने के साथ ही एड्रेस प्रूफ दिया था। जिनका समायोजन पूरा हो गया है। जबकि जिले के अलग-अलग ब्लाक में करीब 150 शिक्षामित्र ऐसे है, जिन्होंने विकल्प तो भर दिया, लेकिन अभी तक अपने ससुराल या पति के घर का एड्रेस प्रूफ अभी तक नहीं दिया। जिससे उनका समायोजन अभी तक पूरा नहीं हो सका है। ऐसे में शिक्षामित्रों का एड्रेस प्रूफ जमा कराने के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिया गया।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner