-चुनाव आचार संहिता की शिकायतें दर्ज कराने से पीछे नहीं हट रहे लोग

-हाइटेक कंट्रोल रूम में अब तक दर्ज हुई सैकड़ों शिकायतें

<-चुनाव आचार संहिता की शिकायतें दर्ज कराने से पीछे नहीं हट रहे लोग

-हाइटेक कंट्रोल रूम में अब तक दर्ज हुई सैकड़ों शिकायतें

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: लोकसभा चुनाव चरम पर है. प्रत्याशी वोटर्स को लुभाने के लिए नए-नए तरीके निकाल रहे हैं. प्रचार के लिए वह चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन से भी पीछे नहीं हट रहे. लेकिन, आप चाहें तो उनकी मनमानी पर रोक लग सकती है. अगर चुनाव के दौरान पब्लिक को कोई परेशानी हो रही है तो वह महज एक कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करवा सकती है. इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से बनाया गया हाइटेक कंट्रोल रूम ख्ब् ऑवर्स वर्क कर रहा है. खास बात यह है कि दो दर्जन से अधिक लोग ऐसे हैं जो इसकी शिकायत कंट्रोल रूम तक पहुंचा भी चुके हैं.

ऐसे काम कर रहा है कंट्रोल रूम

विकास भवन में बना चुनाव कंट्रोल रूम पांच मार्च से रन कर रहा है. या यूं कह लें कि पब्लिक की समस्याओं के सॉल्यूशन के लिए बनाए गए जन सुविधा केंद्र को ही यह जिम्मेदारी सौंपी गई है. यहां पर फोन कॉल द्वारा दर्ज कराई जाने वाली शिकायतों को प्रॉपरली ऑनलाइन रिकार्ड भी किया जा रहा है. शिकायत दर्ज होते ही लोगों के मोबाइल पर एसएमएस के जरिए कम्प्लेंट नंबर भी भेजा जा रहा है. ख्ब् घंटे चल रहे कंट्रोल रूम की शिकायतों को संबंधित लोकसभा के आरओ को भी तत्काल ट्रंासफर कर दिया जाता है.

इन नंबर्स पर करें शिकायत

0भ्फ्ख्-ख्भ्ब्88क्क्

0भ्फ्ख्-ख्भ्ब्88ख्ख्

0भ्फ्ख्-ख्भ्ब्8ख्ख्0

टोल फ्री नंबर- क्077

फैक्स नंबर- ख्भ्ब्88फ्फ्

अब तक पहुंची ख्ब्फ् शिकायतें

कंट्रोल रूम में अब तक चुनाव से जुड़ी ख्ब्फ् शिकायतें दर्ज हो चुकी हैं. इनमें अधिकतर वोटर कार्ड से जुड़े मामले थे. वहीं ख्7 मामले चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन से जुड़े पब्लिक ने दर्ज कराए हैं. इनमें से ख्म् का निस्तारण कर दिया गया है. कंट्रोल रूम के सहायक प्रभारी जीडी यादव कहते हैं कि पब्लिक में अवेयरनेस बढ़ रही है. प्रत्याशियों की मनमानी के बारे में आने वाली शिकायतों को संबंधित लोकसभा के आरओ के जरिए एमसीसी की निगरानी टीम को रिफर कर दिया जाता है.

अलग से बनाया गया सॉफ्टवेयर

जनसुविधा केंद्र को चुनाव कंट्रोल रूम बनाने के बाद अलग से एक साफ्टवेयर लगाया गया है. जहां चुनाव से जुड़ी शिकायतों का लेखा-जोखा तैयार किया जाता है. खुद ऑब्जर्वर और जिला निर्वाचन अधिकारी पी गुरु प्रसाद की निगरानी में कंट्रोल रूम की मॉनीटरिंग की जा रही है. इस साफ्टवेयर की खास बात है कि जब तक संबंधित अधिकारी द्वारा किसी शिकायत पर रिप्लाई नहीं किया जाता है, वह कम्प्यूटर पर डिफाल्टर ही शो करती है, जिसके चलते फटाफट सॉल्यूशन निकाला जा रहा है.