- घोषणा के 24 घंटे में मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट लागू

- निर्वाचन कार्य की वीडियोग्राफी कराए जाने के निर्देश

- जिलाधिकारी ने अफसरों के साथ बैठक कर दिए खास निर्देश

Meerut. निर्वाचन कार्यो में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराई जाएगी. भारत निर्वाचन आयोग के स्पष्ट निर्देश हैं कि चुनाव संबंधी सभी कार्यो को समयानुसार पारदर्शिता के साथ पूरा किया जाए. डीएम बी. चंद्रकला ने मंगलवार को बचत भवन में विधान सभा निर्वाचन-2017 को स्वतंत्र, निष्पक्ष, एवं शान्तिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने के उद्देश्य से जनपद के सभी नोडल अधिकारी एवं सह नोडल अधिकारियों के साथ बैठक की.

24 घंटे में हटाएं होर्डिग

डीएम ने आदेश दिए कि अधिसूचना जारी होने के अगले 24 घंटे के अन्दर सभी पोस्टर, बैनर, होर्डिंग, वॉल पेन्टिग आदि प्रचार सामग्री को हटा लें. उन्होंने इस कार्य के लिए सभी एसडीएम एवं पुलिस अधिकारियों के साथ एक संयुक्त टीम बनाकर अभियान चलाने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि यदि किसी भी अधिकारी, राजनैतिक पार्टी या आम नागरिक द्वारा आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया जाएगा तो उसके खिलाफ लोकप्रतिनिधित्व अधिनियम के तहत सख्त कार्रवाई होगी.

मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट

-चुनाव घोषणा के बाद कोई भी राजनीतिक पार्टी सरकारी वाहनों का उपयोग न करें

-विभागीय वेबसाइट्स पर मंत्री आदि की फोटो न लगी रहें

-घोषणा के पूर्व से शुरू निर्माण कार्य नहीं रुकेंगे. घोषणा के बाद कोई नया निर्माण शुरू नहीं होगा.

-चुनाव में गठित व्यय अनुरक्षण समिति, फ्लाइंग, सर्विलांस व एमसीएमसी आदि टीमें अपना कार्य करें.

-शिकायतों के निस्तारण के लिए कलक्ट्रेट कन्ट्रोल रूम संचालित किया जाएगा.

-अपने-अपने क्षेत्रों में नियमानुसार शस्त्र लाईसेंस धारकों के शस्त्र जमा कराएं.

सूचना तंत्रों को सक्रिय करें

एसएसपी जे. रविन्द्र गौड़ ने पुलिस अधिकारियों से कहा कि वे अपने सूचना तंत्र को सक्रिय कर लें. अधिसूचना के बाद अफसर मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट का अनुपालन करें. बैठक में सीडीओ विशाख जी, एमडीएम वीसी योगेन्द्र यादव, सचिव अविनाश शर्मा, एडीएम एफआर गौरव वर्मा, नगर मुकेश चन्द्र, नगर मजिस्ट्रेट अवधेश सिंह, पुलिस अधीक्षक नगर आलोक प्रियदर्शी आदि अफसर मौजूद थे.