- लगातार गिर रहे तापमान का असर बिजली उत्पादन पर

- बर्फ के कारण नदियों में पानी की आवक कम होने से गिरावट

- करीब 30 मिलियन यूनिट बिजली प्रतिदिन बाहर से लेकर की जा रही सप्लाई

>DEHRADUN:

कड़ाके की ठंड और पहाड़ों में बर्फ जमने से बिजली उत्पादन को भी 'जुकाम' गई है. बर्फ की वजह से नदियों में पानी की आवक कम हो गई. जिससे प्रदेश में हर दिन 39 मिलियन यूनिट बिजली खपत की तुलना में पानी से होने वाला बिजली उत्पादन सिर्फ 9.43 मिलियन युनिट रह गया है. बिजली कंपनी फिलहाल पहले से हुए करार के आधार पर बाहर से बिजली खरीद कर डिमांड पूरी की जा रही है लेकिन उत्पादन और घटा तो बिजली संकट गहरा सकता है.

उत्तराखंड जल विद्युत निगम के करीब एक दर्जन पावर हाउस में औसतन 16 मिलियन यूनिट की जगह बिजली उत्पादन अब घटकर 9.43 मिलियन यूनिट आ गया है. पावर प्रोडक्शन 1 से 2 मिलियन यूनिट तक और गिरने की संभावना जताई जा रही है. हालांकि यूपीसीएल का दावा है कि राज्य के ग्राहकों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं होगी. इस आशंका के चलते पहले से ही कई बाहरी स्रोतों से बिजली प्राप्त की व्यवस्था कर ली गई थी.

उत्पादन गिरकर 7 एमयू तक आने की संभावना

उत्तराखंड में पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार सर्दी का सितम जारी है. उत्तराखंड जल विद्युत निगम के ताजा आंकड़े बताते हैं कि प्रदेश में जल विद्युत योजनाओं से औसत उत्पादन 16 मिलियन यूनिट के एवज में वर्तमान समय में गिरावट आकर 9.43 मिलियन यूनिट रह गया है. आशंका है कि आने वाले दिनों में यह और गिरकर 7 एमयू तक रह सकता है.

4. 347 एमयू तक गिर गया था कभी उत्पादन:

हालांकि यूजेवीएनएल के आंकड़ों में इन पावर हाउसों में उच्चस्तर का बिजली उत्पादन 21.889 मिलियन यूनिट तक पहुंचा है. जबकि निम्न स्तर तक 4.347 तक पहुंचा. जबकि जुलाई माह यानि बरसात में लगातार नदियो में गाद बढ़ने के कारण कई बार उत्पादन शून्य भी रहा है. फिलहाल, यूजेवीएनएल के रामगंगा व चिला पावर हाउसों में औसत से थोड़ी ही गिरावट आई है.रामगंगा में एवरेज 2.755 एमयू की तुलना में 2.5 एमयू और चिला ने 3.187 की तुलना में1.683

एमयू उत्पादन बरकरार है.

पावर हाउस--उच्च उत्पादन (>°×Øê)--क्षमता (एमडब्ल्यू)

छिबरो--4.860--240

खोदरी--2.091--120

ढकरानी--0.750--33.75

ढालीपुर--1.120--51

कुलहाल--0.719--30

तिलोथ--2.226--90

धरासू--7.285--304

चिला--3.187--144

रामगंगा--2.755--198

खटीमा--1.069--41.4

पथरी--0.493--20.4

मोहम्मदपुर--0.210--9.3

26 दिसंबर को उत्पादन

छिबरो--1.824

खोदरी--0.500

ढकरानी--0.195

ढालीपुर--0.306

कुलहाल--0.233

तिलोथ--0.743

धरासू--1.309

चिला--1.683

रामगंगा--2.496

खटीमा--0.462

पथरी--0.296

मोहम्मदपुर--0.140

गलोगी--0.021

---------

कुल--9.430

---------

ऊर्जा निगम का दावा

यूपीसीएल के मुताबिक सर्दी के सीजन में बिजली के उत्पादन में गिरावट आ जाती है. ऊर्जा निगम ने पहले से ही अपनी तैयारी रखता है. निगम के दावों के अनुसार सेंट्रल पूल से करीब 12-14 मिलियन यूनिट, सोलर पावर से 0.5 एमयू, सुगर मिल से 1 एमयू बिजली प्राप्त हो रही है. जबकि 7 एमयू शार्ट टर्म प्रोवाईडर्स से और 7 एम यू बैंकिंग पंजाब को गर्मी में अतिरिक्त बिजली दी गई थी से लेकर सप्लाई की जस रही है. इस प्रकार से करीब 9 एमयू बिजली दूसरे स्रोतों से प्राप्त की जा रही है. ऊर्जा निगम के चीफ इंजीनियर व प्रवक्ता एके सिंह का दावा कि कि कड़ाके की सर्दी के बीच राज्यवासियों को किसी भी प्रकार से बिजली की कमी को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है. ऊर्जा निगम का कहना है कि इसके बावजूद भी जरूरत पड़ने पर डेली बिड के जरिए बिजली खरीदने की व्यवस्था सुचारु है.

पिछले सात दिन का बिजली उत्पादन

26 दिसंबर 9.430

25 दिसंबर 9.147

24 दिसंबर 9.511

23 दिसंबर 9.493

22दिसंबर 9.065

21 दिसंबर 9.792