-ट्रेंकुलाइज करके वन विभाग की टीम ने हाथियों को पकड़ा

बरेली : नेपाल से भटककर आए दोनों हाथियों को आखिरकार वेडनसडे देर शाम पकड़ लिया गया. डिस्ट्रिक्ट रामपुर के नगला उदई गांव के जंगल में वन विभाग की टीम और एक्सप‌र्ट्स ने दोनों हाथियों को ट्रेंकुलाइज कर दिया. अब इन्हें नेपाल बॉर्डर पर छोड़ने की तैयारी की जा रही है.

चार लोगों की ले चुके जान

पिछले करीब 20 दिन से दोनों हिंसक हाथियों ने बरेली और रामपुर के साथ ही उत्तराखंड में भी जमकर उत्पात मचाया. बरेली में एक वनकर्मी समेत दो लोगों की जान लेने के साथ ही इन हाथियों ने रामपुर में भी दो लोगों की जान ले ली. हाथियों के हमले में कई लोग घायल भी हुए थे.

ग्रामीणों की ली मदद

बरेली के मीरगंज से रामपुर पहुंचे हाथियों को बेहोश करने के लिए वन कर्मियों ने प्लान तैयार किया. नगर पालिका से दो जेसीबी मंगाई गई और चार ग्रामीणों को उनकी लाइसेंसी बंदूकों के साथ ऑपरेशन में शामिल किया गया. मुख्यालय से हाथी पकड़ने के यंत्र, जंजीरें, रस्सियां, ट्रेंकुलाइज गन आदि को मंगवाया गया. वेडनसडे शाम करीब साढ़े चार बजे हाथियों को बेहोश करने के लिए वन विभाग के अधिकारी और एक्सपर्ट नगला उदई गांव के जंगल पहुंचे. हाथियों को पकड़ने के मिशन में तीनों हथिनियों को भी शामिल किया गया. हथनियों पर सवार होकर वनकर्मी जंगल में गए. शाम पांच बजे एक जंगली हाथी को ट्रेंकुलाइजर से डॉट लगाई गई. इसी दौरान दूसरा हाथी मौका देखकर जंगल में भाग गया. उसकी तलाश में तीनों हथिनियों के साथ वन कर्मियों को जंगल में भेजा गया. देर शाम उसे भी बेहोश कर दिया गया. ऑपरेशन में बरेली, मुरादाबाद, शाहजहांपुर, रामपुर, बदायूं, झांसी, आगरा, उत्तराखंड, असम, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल आदि वन विभाग की टीम में शामिल रहीं. डीएम रामपुर आन्जनेय कुमार सिंह ने बताया कि दोनों हाथियों को पकड़ लिया गया है. इन्हें नेपाल बार्डर पर भेजा जा रहा है.