8.5 परसेंट से ज्यादा ब्याज
चालू वित्त वर्ष में एंप्लॉयीज प्रॉविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन (ईपीएफओ) 8.5 परसेंट से ज्यादा ब्याज दे सकता है. पिछले फाइनेंशियल ईयर में ईपीएफओ ने 8.5 परसेंट का ब्याज दिया था. इसका लाभ पांच करोड़ से भी ज्यादा सब्सक्राइर्ब्स को मिला था.

न घाटा न सरप्लस
एक रिपोर्ट के अनुसार चालू वित्त वर्ष में 8.5 परसेंट से थोड़ा ऊंची ब्याज दर होने पर ईपीएफओ को न घाटा होगा और न ही सरप्लस का मामला रहेगा. ईपीएफओ ने 2012-13 में अपने सब्सक्राइबर्स को 8.5 फीसदी, 2011-12 में 8.25 फीसदी और 2010-11 में 9.5 फीसदी की दर से ब्याज दिया था. इस साल इसके एकाउंट्स में 1,761 करोड़ रुपए से भी ज्यादा रकम थी.

दिवाली से पहले ऐलान
लेबर मिनिस्टर की अगुआई में सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (सीबीटी) पीएफ ब्याज दरों पर फैसला लेता है. इसकी बैठक होने की प्रक्रिया में है. चालू वित्त वर्ष में पीएफ ब्याज दरों को लेकर दिवाली से पहले ऐलान होने की उम्मीद है. नियम तो यह है कि वित्त वर्ष की शुरुआत में ही पीएफ के ब्याज दरों की घोषणा हो जाए लेकिन पिछले कई वर्षों से ऐसा नहीं हो रहा है.

Business News inextlive from Business News Desk