-पैदल और ट्रकों में भूसे की तरह भरकर जा रहे लोगों के लिए प्रशासन ने उतारा बसों का बेड़ा

- हाईवे पर लोगों को रोककर किया खाने-पीने का इंतजाम, फिर बसों में बैठाकर किया रवाना

KANPUR: देर से सही लेकिन सरकार को भूखे पेट सैकड़ों किलोमीटर पैदल घर जा रहे लोगों का ख्याल आया है। लोगों को सुरक्षित और आराम से घर से भेजने के लिए हाईवे पर बसों का बेड़ा उतार दिया गया है। रामादेवी फ्लाई ओवर पर प्रशासन ने पैदल चल रहे और भूसे की तरह लोगों को भरकर ले जा रहे ट्रकों को रोका। लोगों को उतारकर उन्हें पानी और खाना दिया गया है। इसके बाद पुलिस ने भी मानवता की मिसाल करते हुए खुद उनका लगेज बसों में रखवाया और लोगों को बसों में बैठाया। पुलिस और प्रशासन का यह चेहरा देख लोगों ने इनके जयकारे भी लगाए।

कैंट सीओ ने बांटे फल

चकेरी हाइवे जाजमऊ में लोगों की मदद के लिए तैनात सीओ कैंट आरके चतुर्वेदी ने पैदल पलायन करने वाले लोगों को फल, बिस्कुट व पानी वितरण कराया। इसके साथ ही उन्हें रोडवेज और प्राइवेट बसों में बैठाकर रवाना किया। प्रयागराज निवासी सुजीत ने बताया कि वह मध्यप्रदेश से ट्रक से चला था। बाराजोड़ के पास ट्रक वाले ने उतार दिया था। जहां से पैदल ही आ रहा है। रामादेवी के पास पुलिस ने रोककर खाने का इंतजाम किया और बस में बैठाया है।

---------------------

200 प्राइवेट बसों का इंतजाम किया आरटीओ ने

70 बसों को संडे को हाईवे पर लगाया गया था

40 बसें सिर्फ कानपुर-लखनऊ के बीच चल रहीं

30 प्राइवेट बसों को लंबी दूरी पर भेजा गया

29 जेएनएनयूआरएम की बसें भी लगाई गई

एआरटीओ ने संभाली व्यवस्था

एआरटीओ प्रवर्तन सुनील दत्त ने बताया कि शासन के आदेशानुसार संडे को कानपुर एरिया में 70 प्राइवेट बसों को लगाया गया था। जहां भी पैदल जाने वाले दिखाई दे रहे हैं, उनको एक स्थान पर रोक लिया जा रहा है। फिर जिले के मुताबिक उनको बसों में बैठा कर भेजा जा रहा है। 40 प्राइवेट बसें सिर्फ कानपुर से लखनऊ के बीच लोगों को भेजने के लिए अप-डाउन कर रही है। वहीं 30 प्राइवेट बसों को बाहर भेजा गया। जिसमें 2 बसें गोरखपुर, 2 बसें बहराइच, 3 बसें प्रयागराज, 1 बस रायबरेली, 5 बस बिहार भेजी गई है।

चकेरी हाईवे पर लगाया

फजलगंज डिपो एआरएम व जेएनएनयूआरम बसों का संचालन देखने वाले जुनैद अहमद अंसारी ने बताया कि प्रशासन के आदेश पर संडे को 29 बसों को चकेरी हाईवे पर लगाया गया था। जिनमें लोगों को बैठा कर भेजा जा रहा है। इन बसों को 150 से 200 किमी तक की जर्नी के लिए लगाया गया है। क्योंकि ये सभी बसें सीएनजी है। जो एक बार में इतना ही सफर तय कर सकती हैं।

--------------

वर्जन

शासन ने हर जिले में आरटीओ को 200 प्राइवेट बसों का इंतजाम करने को कहा है। इन बसों के लिए डीजल आदि का खर्च राज्य सरकार वहन करेगी। संडे को 70 बसों को हाईवे लगाया गया था। साथ ही सभी एआरटीओ प्रवर्तन की ड्यूटी भी लगाई गई है। जो जरूरत के मुताबिक, बसों को भेजते हैं।

सुनील दत्त, एआरटीओ प्रवर्तन

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner