-डासना से मेरठ तक एक्सप्रेस-वे के लिए टेंडर प्रक्रिया अधर में

- एनएचएआई के अनुसार अगस्त में शुरू हो जाएगा निर्माण कार्य

Meerut : पीएम नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी परियोजना दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे की धीमी रफ्तार पर केंद्र और यूपी सरकार ने नाराजगी जताई है. तो वहीं एनएचएआई ने दावा किया है अगस्त में बिडिंग प्रोसेस को पूर्ण कर डासना से मेरठ के बीच निर्माण कार्य आरंभ करा दिया जाएगा.

हो चुका है भूमि अधिग्रहण

परियोजना को लेकर मेरठ प्रशासन द्वारा भूमि अधिग्रहण और मुआवजा आवंटन की प्रक्रिया पूर्ण कर दी गई है. लगातार नेशनल हाईवे एथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) द्वारा अधिग्रहित भूमि पर कब्जा न लेने से प्रशासन के माथे पर बल पड़ रहे थे तो वहीं अधिग्रहित की गई भूमि पर कब्जा बरकरार रखना बड़ी चुनौती है. इस संबंध में मेरठ के अपर जिलाधिकारी भूमि अध्याप्ति द्वारा कई बार एनएचएआई को पत्र भी लिखा गया.

आज जारी होगी निविदा

एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर आरपी सिंह ने बताया कि डासना से मेरठ के बीच करीब 46 किमी 6 लेन एक्सप्रेस-वे का निर्माण प्रस्तावित है. प्रोजेक्ट में कई लेवल पर गत समय में मॉडीफिकेशन हुआ है. इसलिए नए सिरे से बिडिंग प्रोसेस को आरंभ किया जा रहा है. संभवत: गुरुवार को मॉडीफाइड बिड्स रिलीज कर दी जाएंगी.

एक नजर में..

फेस 3

6 लेन

46 किमी-डासना से मेरठ की दूरी

3575 करोड़-लागत

---

ऑफिशियल स्टैंड

अगस्त से डासना और मेरठ के बीच बिडिंग प्रोसेस को कम्प्लीट कर एक्सप्रेस-वे निर्माण आरंभ कर दिया जाएगा. प्रोजेक्ट के मॉडीफिकेशन के चलते निर्माण अधर में था.

आरपी सिंह, प्रोजेक्ट डायरेक्टर, एनएचएआई