ब्रांडेड कंपनियों के आइटम की सेल कम
मार्केट में ब्रांडेड कंपनियों के आइटम की सेल कम होने पर जब सर्वे कराया जाता है, तो बात छन कर आती है कि यहां तो डी मार्का की सेलिंग अधिक व ऑरिजनल का कम है. ऐसा ही चौंकाने वाला डी मार्का की स्मॉल फैक्टरी खाजेकलां थाना एरिया के मच्छरहट्टा गली के महाराज की ड्योढ़ी के पास चल रही थी.

पहले रेकी फिर हुआ रेड
हिन्दुस्तान यूनिलीवर लि. के लीगल एडवाइजर खुर्रम मल्लिक, फिल्ड ऑफिसर शशि रंजन, हेमंत कुमार व रजनीकांत ने पहले रेकी किया. इसके बाद एसएसपी मनु महाराज से मिलकर इंफॉर्म किया. उन्होंने दो जवानों को सिविल में भेज रेकी कराया. एसएसपी ने डीएसपी राजेश कुमार व खाजेकलां थाना के एसएचओ को रेड करने का फरमान जारी किया. नतीजा सामने आया.

थ्री स्टोरी बिल्डिंग में प्रोडक्शन
यहां मनीषा गृह उद्योग, मच्छरहट्टा पटना सिटी के नाम से प्रोप्राइटर सुभाष कुमार चौधरी चला रहा था. वह टेढ़ी घाट का रहने वाला है. यहां पेट्रोलियम जेली वेसलिन, पौंड्स के लुक ए लाइक से मिलता-जुलता नेहा कोल्ड क्रीम, डव व एक्स नाम से नेल एनामेल, का डी मार्का प्रोडक्शन किया जा रहा था. साथ ही डाबर का हेयर ऑयल का रैपर, बोरोलिन से मिलता-जुलता क्रीम, फेयर एंड लवली व बोरोप्लस से मिलता-जुलता नाम, कलर, डिजाइन आदि का यूज किया जाता है.

अरेस्टिंग
1. अनिल कुमार सिंह उर्फ अनु पिता प्रेम प्रसाद, जिरिया तमोलिन की गली
2. रवि चौधरी उर्फ खदेरन पिता फिरंगी चौधरी, प्रतापपुर कसबा, थाना मेहंदीगंज
3. छोटू कुमार पिता विरेंद्र शर्मा, रानीपुर उपरि गली थाना मेहंदीगंज
4. सोनू कुमार पिता राजेश कुमार, लोदीकटरा टीओपी के पास

बरामद सामान की सूची
- केमिकल्स : 20 ली. का 120 छोटा व 200 ली. का 16 बड़ा ड्रम
- ढक्कन : 120 बड़ा बोरा में
- वेसलिन : 25 कार्टन
- बोरो प्लस : 20 कार्टन
- नेल पॉलिश : 370 कार्टन
- कोल्ड क्रीम
- नेहा क्रीम
- लकमी
- बोरो प्लस टुरबो
- बोपो वेब
- मैरी मी
- डुप्लीकेट मशीन : करीब छह
- रैपर : अधिक क्वांटिटी में
- नेल एनामेल ब्रांड : ओरलोव, अल्टो, मैदोना, ब्लू सोनाल, एक्स, मिनी, दुल्हन, स्पास, किस-मी, डव आदि

पांच बाल मजदूर को छुड़ाया
डी मार्का का चल रहे स्मॉल इंडस्ट्रीज में बाल लेबरर से भी काम लिया जा रहा था. इस संबंध में एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि पांच चाइल्ड लेबरर यहां से मिले, जो काम कर रहे थे. इन सबों को वहां से मुक्त कराया गया है और चेतावनी दी गयी कि वे पढ़ाई करें, न कि फैक्टरी में काम करें.
1. राहुल कुमार (12) पिता अशोक यादव, मच्छरहट्टा गली
2. सन्नी कुमार (10) पिता विजय चौधरी, मेहंदीगंज
3. संजीव कुमार (13) पिता विजय महतो, मंगल तालाब
4. विक्की कुमार (14) पिता सरजू यादव, रानीपुर
5. सन्नी कुमार (12) पिता मंगल चौधरी, रानीपुर