प्रयागराज में गिरफ्तार किये गये छह सौदागरों ने को एसटीएफ ने पकड़ा

PRAYAGRAJ: सिविल लाइंस रोडवेज बस अड्डे से शुक्रवार सुबह एसटीएफ ने नकली नोट के पांच सौदागरों को धर-दबोचा. इनमें दो प्रतापगढ़, दो पश्चिम बंगाल और एक प्रयागराज के माण्डा एरिया का रहने वाला है. उन्होंने बताया है कि बांग्लादेश में छपने वाले जाली नोटों को पश्चिम बंगाल के रास्ते भारत में लाया जाता है. इनके कब्जे से 2.42 लाख रुपये मूल्य की नकली करेंसी पकड़ी गयी है. 52 हजार 400 रुपए मूल्य की असली करेंसी को भी जब्त किया गया है. इनके पास से पांच मोबाइल व एक एटीएम कार्ड वोटर आईडी व आधार कार्ड को जब्त कर लिया गया है.

दस के बदले मिलते थे पन्द्रह हजार

पूछताछ में आरोपितों ने अपना नाम अच्छे लाल चौरसिया उर्फ बच्चा लाल निवासी माधवपुर मजरा महेशपुर लालगंज प्रतापगढ़, त्रियोगी नारायण पांडेय निवासी कचहरी रोड पट्टी प्रतापगढ़, कपूर चंद्र जायसवाल निवासी टिकरी थाना माण्डा प्रयागराज, सुभाष मण्डल व विश्वजीत सरकार निवासीगण जैनपुर थाना वैसनव नगर जिला माल्दा पश्चिम बंगाल बताया. अच्छे लाल चौरसिया ने बताया कि दिल्ली में उसकी मुलाकात मधुबनी बिहार के जयमोहन झा से हुई थी. जयमोहन के तार बांग्लादेश से नकली नोट सप्लाई करने सुभाष मण्डल व विश्वजीत सरकार से जुड़े थे. यह दोनों बांग्लादेश से पश्चिम बंगाल के मालदा जनपद के रास्ते यहां तक नोट पहुंचाया करते थे. दस हजार असली नोट के बदले पंद्रह हजार मूल्य के नकली नोट मिलते थे. एसटीएफ के मुताबिक करीब दस वर्षो से पांचों इस धंधे में लिप्त हैं. अब तक करीब पांच करोड़ रुपये मूल्य के जाली नोट प्रयागराज, प्रतापगढ़, कौशाम्बी, फतेहपुर, बिहार, दिल्ली तक में खपा चुके हैं.