-धूमनगंज के सेंटर पर एसटीएफ ने की छापामारी, सॉल्वर व अभ्यर्थी गिरफ्तार

-पांच लाख में प्रश्नों को साल्व करने का लिया था ठेका

PRAYAGRAJ: एसटीएफ ने एक बार फिर रेलवे भर्ती बोर्ड की ग्रुप डी परीक्षा सेंधमारी की कोशिश नाकाम कर दी. दूसरे के स्थान पर परीक्षा देने आए सॉल्वर और अभ्यर्थी को एसटीएफ ने गुरुवार को धर दबोचा. गिरफ्तार किए गए सॉल्वर व अभ्यर्थी बिहार के निवासी हैं. ऑनलाइन के जरिए अभ्यर्थियों को फंसाने के बाद परीक्षा पास कराने का ठेका साल्वरों ने पांच लाख रुपए में लिया था. एसटीएफ ने पकड़े गए साल्वर के कब्जे से फेक एडमिट कार्ड, आधार कार्ड व मोबाइल सहित अन्य सामान बरामद किया है.

बिहार के हैं दोनों

मुखबिर ने एसटीएफ को सूचना दी कि रेलवे भर्ती बोर्ड की गु्रप डी परीक्षा में साल्वर बैठाने के लिए पूरा इंतजाम किया गया है. सर्विलांस के जरिए लोकेशन ट्रेस कर एसटीएफ इंस्पेक्टर केशवचंद्र राय ने धूमनगंज सुलेमसराय में स्थित मधु वाचस्पति इंटर कॉलेज के सेंटर पर छापा मार दिया. गेट पर ही एसटीएफ ने फर्जी आइडी लेकर प्रवेश कर रहे सॉल्वर राजीव कुमार पुत्र रामईश्वर निवासी ग्राम मनेरा, थाना मनेरा, पटना-बिहार को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ के बाद अभ्यर्थी मेधावृत पुरुशार्थी पुत्र अमित प्रकाश निवासी दाउदपुर, वार्ड नंबर एक छिटनावन पटना-बिहार भी गिरफ्तार किया गया.

बाक्स

इस तरह की गई थी पूरी सेटिंग

-सीओ एसटीएफ नवेन्दु कुमार ने बताया कि साल्वर राजीव ने पांच लाख रुपए में मेधावृत की जगह परीक्षा देने का सौदा किया था.

-इसके लिए उसे 80 हजार रुपए बतौर एडवांस दिए गए थे. यह सौदा मेधावृत के गांव का ही रंजन कुमार ने कराई थी.

-दानापुर पटना में कोचिंग संचालक राजीव सिंह के जरिए अभ्यर्थियों को सौदे के लिए बुलाया गया था.

-सॉल्वर गिरोह के अन्य सदस्य कई अभ्यर्थियों से रुपए लिए हैं. जिनकी खोज की जा रही है.

-इंस्पेक्टर केशवचंद्र राय के मुताबिक, मेधावृत की आइडी और एडमिट कार्ड पर राजीव कुमार ने अपनी फोटो चस्पा कर ली थी. आधार कार्ड भी फर्जी मिला है.