कोई नाम तो कोई सिगनेचर, कोई लिखता है नंबर
नोट पर लिखने की आदत काफी पुरानी है. लोग नोट पर कुछ भी लिखने में संकोच नहीं करते. अक्सर ऐसा देखा जाता है कि नाम, मोबाइल नंबर और संख्या लोग लिख देते हैं. ऐसे में नोट पर कई तरह की लिखावट सामने आती है. इससे नोट देखने में खराब हो जाता है. कई बार नकली नोट की आशंका में लोग देने वाले का नाम खुद से लिख देते हैं. बिजनेसमैन ऐसा करते नजर आ जाते हैं.

एफबी पर शुरू की मुहिम, बचाएं नोट
नोट पर कुछ भी लिखने से उसको खराब माना जाएगा. आरबीआई ने एक जनवरी से यह नियम लागू करने का फैसला लिया है. उसका मानना है कि इससे नोट को साफ- सुथरा रखने के साथ मुद्रा का सम्मान बना रहेगा. आरबीआई के इस फैसले के लागू होने के पहले सोशल साइट्स पर नोट को सेफ रखने का कैंपेन शुरू हो गया है. गृह मंत्रालय में बतौर क्लर्क तैनात राहुल भट्ट सहित कई लोगों ने फेसबुक पर नोट को बचाने की मुहिम छेड़ी है.

नोट क्लीन पॉलिसी के तहत यह किया जा रहा है. इसका कोई सर्कुलर नहीं आया है. नोट की सुंदरता और लाइफ बचाने में मदद मिलेगी.
गोपाल प्रसाद, रीजनल मैनेजर, एसबीआई