CHAIBASA : पश्चिमी सिंहभूम जिला मुख्यालय चाईबासा के कृषि विभाग कार्यालय के अधीन जिला भूमि संरक्षण विभाग के एक कर्मचारी को एंटी करप्शन ब्यूरो जमशेदपुर की टीम ने 40 हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। पकड़े गए कर्मचारी का नाम कुमार गौरव है और वह विभाग में फील्ड सुपरवाइजर के पद पर कार्यरत है। गिरफ्तारी के बाद एसीबी की टीम कुमार गौरव को लेकर जमशेदपुर के सोनारी एसीबी थाने पहुंची। बताया जाता है कि चाईबासा निवासी ठेकेदार निकुंज दास ने भूमि संरक्षण विभाग में तीन तालाब की खोदाई का काम किया था। योजना की कुल राशि 38 लाख रुपये थे। विभाग ने 20 लाख रुपये का भुगतान ठेकेदार को कर दिया था। शेष राशि के बिल को पास करने के लिए फील्ड सुपरवाइजर कुमार गौरव 20 फीसद राशि भूमि संरक्षण पदाधिकारी कालीपद महतो और छह फीसद राशि स्वयं के लिए घूस के तौर पर मांग रहा था।

17 मार्च को की थी कंप्लेन

ठेकेदार ने इसकी शिकायत 17 मार्च को जमशेदपुर स्थित एसीबी थाने में की। एसीबी डीएसपी अर¨वद कुमार के नेतृत्व में एक टीम तैयार की गई। शिकायत का सत्यापन करने में यह पाया गया कि फील्ड सुपरवाइजर ने 40 हजार रुपये बतौर घूस मांगे हैं। इसके बाद उसे रंगे हाथ दबोचने की योजना बनायी गयी। योजना अनुसार बुधवार को चाईबासा स्थित कार्यालय में ठेकेदार ने जैसे ही रिश्वत की रकम कुमार गौरव को पकड़ाई, पहले से ही घात लगाए बैठे एसीबी टीम के सदस्यों ने उसे दबोच लिया। पूछताछ में कुमार गौरव ने अपना अपराध भी स्वीकार कर लिया है। जरूरी औपचारिकता पूरी करने के बाद टीम कुमार गौरव को लेकर जमशेदपुर के सोनारी स्थित एसीबी थाने पहुंची। यहां से उसे जेल भेजा जायेगा। गौरव का घर जमशेदपुर के खासमहल स्थित सुकेत खान फ्लैट में है। वो मूल रूप से सुपौल के लोकहा बाजार का रहने वाला है। डीएसपी ने बताया कि एसीबी जनवरी से लेकर अब तक घूसखोरी के चार मामलों में कार्रवाई कर चुकी है।

Posted By: Inextlive

inext-banner
inext-banner