-कैंट रूट ब्लॉक होने के बावजूद अवैध वाहनों का हो रहा संचालन

- फ्लाईओवर शटरिंग हादसे के बाद किया गया रूट किया गया ब्लॉक -परिवहन माफियाओं के सिंडिकेट को नहीं तोड़ पा रहा स्थानीय प्रशासन

चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर शटरिंग हादसे के बाद जिला प्रशासन ने काम पूरा नहीं होने तक कैंट की ओर जाने वाले रास्तों को ब्लॉक कर दिया है. लेकिन परिवहन माफियाओं के लिए इस नोएंट्री के कोई मायने नहीं. फ्लाईओवर के नीचे प्राइवेट बसों और सवारी वाहनों का आना-जाना जारी है. जबकि गत दिनों पुलिस ने कैंट फ्लाईओवर के नीचे खड़े अवैध वाहनों के खिलाफ अभियान चलाने का निर्देश दिया था. अभियान भी चला कई वाहन सीज भी हुए लेकिन फिर जम गए.

हर वक्त रहती है मौजूदगी

-कैंट फ्लाईओवर के नीचे हर वक्त अवैध वाहनों का संचालन होता है.

-बकायदा प्राइवेट बसों का फ्लाईओवर के नीचे स्टैंड लगता है. -कुछ प्राइवेट कार-जीप वाले भी वाहन खड़ा कर सवारियों के ताक में रहते हैं.

-यह नजारा रोडवेज पेट्रोल पंप के ठीक सामने फ्लाईओवर के नीचे देखने को मिलता है.

-दबंग बस संचालकों की दबंगई ऐसी है कि दोपहर में भी बनारस-आजमगढ़ रूट की बसें लगी रहती है.

-इधर, बनारस-इलाहाबाद रूट के लिए छोटे वाहन खड़े होकर सवारियां बैठाते है.

-कैंट फ्लाईओवर शटरिंग हादसे के बाद से एक लेन को बंद कर दिया गया है.

-अब अंधरापुल से कैंट आने वाले वाहनों को रोडवेज और पेट्रोल पंप के बीच वाले रास्ते से आगे वाहनों को निकाला जा रहा है.

-पंप के पास ही बैरिकेडिंग कर दी गई, हालांकि छोटे वाहनों के लिए उस बैरिकेडिंग का कोई मतलब नहीं है.

-कार, ऑटो आदि वाहन बैरिकेडिंग लांघकर आगे तो निकल ही रहे हैं. -ताजुब्ब इस बात की है कि बसों का आवागमन इस रूट पर बिल्कुल बंद कर दिया गया है,

-यहां तक कि रोडवेज बस भी अपने पिछले रास्ते लक्ष्मी हॉस्पिटल की ओर से निकल रही है.

-ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि इन प्राइवेट वाहनों को कौन इंट्री दे रहा है.

पुलिस रहती है खड़ी

रूट ब्लॉक करने के बाद प्राइवेट वाहनों को खदेड़ने के लिए सिगरा पुलिस मौजूद रहती है लेकिन अवैध वाहन संचालकों पर इसका कोई असर नहीं पड़ता है. रोडवेज चौकी पुलिस कभी-कभार अभियान चलाती है लेकिन पुलिसकर्मियों के हटते ही कुछ देर बाद फिर से प्राइवेट वाहन काबिज हो जा रहे हैं. इन्हीं वाहनों को खदेड़ने के लिए बनारस पुलिस ने आधा दर्जन टीम गठित कर बडे़ पैमाने पर अभियान चलाया था.

रूट ब्लॉक के अंदर यदि वाहनों का आवागमन हो रहा है तो यह गलत है. अभियान चलाकर इन्हें खदेड़ने और वाहन सीज करने आदि की कार्रवाई की जाएगी.

एसके सिंह, एसपी ट्रैफिक

Posted By: Inextlive