JAMSHEDPUR: स्टील सिटी में फुटबॉल में करियर बनाने वाले खिलाड़ी टाटा स्टील, टाटा मोटर्स स्पोर्टिंग क्लब में कोचिंग कर सकते हैं. बता दें कि शहर में खिलाडि़यों को अच्छा सरंक्षण टाटा स्टील देती है. टाटा स्टील में बतौर कोच जगन्नाथ गैहरा ने बताया कि खिलाड़ी टाटा स्टील के अर्मरी ग्राउंड, एग्रिको मैदान और टाटा मोटर्स मोलगलकर स्टेडियम में कोचिंग ले सकते हैं. उन्होंने बताया कि नये बच्चों को 1200 रुपये वार्षिक फी देकर ट्रेनिंग दी जाती है. जहां शाम के समय कोच बच्चों को इसकी बारीकियों के बारे में सीखाते हैं.

खेलों में बन रहा है करियर

शहर में बच्चों के साथ ही माता-पिता भी बच्चों के रुझान को समझकर उन्हें कोचिंग करा रहा है. टाटा मोटर्स के फुटबाल के ट्रेनिंग कोच जीबी सिंह ने बताया कि एक दौर था कि लोग कहते थे खेलोगे कूदोगे तो होगे खराब लेकिन, आज हमारे बीच के ही कई खिलाडि़यों ने इस मिथक को तोड़ दिया है. झारखंड से ही नहीं बल्कि जमशेदपुर से ही आर्चरी में दीपिका कुमारी, अंकिता भगत, सौरभ तिवारी, ईशान जग्गी ने अंर्तराष्ट्रीय स्तर पर जमशेदपुर से ही अपनी पहचान बनाई है. जमशेदपुर एफसी टीम में प्रदेश के अच्छे खिलाडि़यों को शामिल किया गया है.

टाटा दे रहा सहारा

शहर में खेलों को सहारा देने का काम जमशेदपुर जी के समय ही किया जा रहा है. जिसकी शुरुआत पहले कंपनियों के मध्य ही टीम बनाकर किया गया था. अर्मरी ग्राउंड के कोच अशोक कुमार टुडू ने बताया कि धीरे-धीरे शहर में खेलों का विकास हुआ. उन्होंने बताया कि मैने कई शहरों को दौरा किया लेकिन जमशेदपुर जैसा खेलों के प्रति दीवानगी कहीं भी देखने को नहीं मिलती हैं. उन्होंने बताया कि शहर में फुटबाल की दीवानगी तेजी से बढ रहे अब बच्चों के साथ ही माता-पिता भी बच्चों को ग्राउंड तक लेकर आ रहे है. उन्होंने बताया कि खिलाडि़यों के रुझान से ही शहर में फुटबाल को बल मिलेगा. उन्होंने कहा कि शहर में जमशेदपुर एफसी बनने के बाद शहर के खिलाडि़यों में एक नई उर्जा दौड़ी है जो आगे जाकर एक नया रूप लेगी.

मैने पहले एग्रिको ग्राउंड में सीखता था लेनिक पिछले तीन माह से मै अर्मरी ग्राउंड में सीख रहा हूं. मै फुटबाल में अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचकर परिवार और शहर का नाम रोशन करना चाहता हूं. लियोनमेसी मेरा फेवरिट प्लेयर है मैं वैसा ही खिलाड़ी बनना चाहता हूं.

आरजो, मानगो

मैने गर्मियों से अर्मरी ग्राउंड में फुटबाल की ट्रेनिंग लेना शुरू किया है. मुझे खेलों में सबसे अधिक फुटबाल पसंद है मै भारतीय कप्तान सुनील छेत्री, बुइचिंग भूटिया की तरह खिलाड़ी बनकर शहर और राज्य का नाम रोशन करना चाहता हैं.

ऋषभ राज डिमना

शहर में स्पोर्ट के क्षेत्र में अपार संभावनाएं है. शहर में जेआरडी में सभी खेलों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है. जिससे शहर के बच्चे अपनी प्रतिभा को कैरियर में बदल सकते है. जेआडी में अनुभवी कोचों की मदद से आप अपना करियर संवार सकते है.

आशीष कुमार

स्पोर्ट हेड जेआडी काम्पलेक्स जमशेदपुर