JAMSHEDPUR: कोल्हान यूनिवर्सिटी (केयू) चाईबासा का मंगलवार को 10वां स्थापना दिवस मंगलवार को सीनेट हॉल में मनाया गया. इसका उद्घाटन वीसी प्रोफेसर डॉ. शुक्ला माहांती, विश्वविद्यालय के वित्त सलाहकार मधूसूदन, कुलसचिव डॉ. एसएन सिंह, कुलानुशासक डॉ. एके झा तथा सिंडिकेट एवं सीनेट के उपस्थित सदस्यों ने सम्मिलित रूप से दीप प्रज्वलित कर किया.

अपने अध्यक्षीय भाषण में कुलपति डॉ. शुक्ला माहांती ने कहा कि सीमित संसाधानों तथा दस वर्षो की छोटी अवधि में विश्वविद्यालय ने उल्लेखनीय उपलब्धियों को प्राप्त किया है. छात्रों के सर्वागीण विकास के लिए विश्वविद्यालय कार्य कर रहा है. अब कम से कम यहां के छात्रों को पास आउट होते ही रोजगार प्राप्त होने लगा है. कुलसचिव डॉ. एसएन सिंह ने इस अवसर पर कोल्हान विश्वविद्यालय का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया. इस अवसर पर मानविकी संकाय के अधिष्ठाता डॉ. एसपी मंडल, काशी साहू कॉलेज के प्राचार्य डॉ. जीपी रजवार, सीनेट एवं सिंडिकेट सदस्य अमिताभ सेनापति, घाटशिला कॉलेज के शिक्षक नरेश कुमार ने भी अपने विचार रखे तथा विश्वविद्यालय को बेहतरी के लिए कई सुझाव दिए.

वीसी ने किया सम्मानित

कुलपति प्रोफेसर डॉ. शुक्ला माहांती ने अवकाश प्राप्त 19 शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को पौधा एवं उत्तरीय देकर सम्मानित किया. इस कुल 27 सेवानिवृत्त शिक्षक व शिक्षकेत्तर कर्मचारियों को आमंत्रित किया गया था.कार्यक्रम के दूसरे चरण में जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज द्वारा कुलगीत एवं संगीत शिक्षक डॉ. सनातन दीप द्वारा प्रस्तुत गजल गीतों ने रंग जमाया तो टाटा कॉलेज चाईबासा के मानव विज्ञान विभाग द्वारा जनजातियों पर आधुनिकता के प्रभाव पर केंद्रीत नाटक प्रस्तुत किया गया. महिला कॉलेज चाईबासा के एनएसएस की छात्राओं ने संगीत की प्रस्तुति दी. कार्यक्रम के अंत में मानभूम शैली में छऊ नृत्य ने मन मोहा. इसके बाद छऊ गुरु रमेश सिंह मुंडा एवं वंशीधर महतो तथा दिव्यांग कलाकार रेहन को भी सम्मानित किया गया. इस कार्यक्रम को सुचारू रूप से संपन्न कराने में डॉ. मनमथ सिंह, डॉ. प्रसून दत्त सिंह, कस्तूरी बोईपाई, डॉ. लोकनाथ, कन्हैया सिंह का योगदान सराहनीय रहा.

ये शिक्षक व कर्मी हुए सम्मानित

डॉ. शैलबाला दास, डॉ. लक्ष्मी झा, डॉ. केपी शुक्ला, डॉ. सतरुपा श्रीवास्तव, डॉ पीबी तिवारी, डॉ. प्रदीप आचार्या, प्रोफेसर एमडीपी सिंह, डॉ. नागेश्वर प्रधान, एमके डे, एस राव, लुदु प्रमाणिक.