JAMSHEDPUR: सरायकेला-खरसावां जिले के चांडिल अनुमंडल के तिरुलडीह थाना क्षेत्र स्थित कुकड़ू हाट बाजार में 14 जून की शाम सात बाइक पर पहुंचे 21 नक्सलियों ने पांच पुलिसकर्मियों को धारदार हथियार से गला रेत और गोली मारकर कर दी थी. हत्या की योजना में शामिल चार नक्सलियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. गिरफ्तार किए गए नक्सलियों में चांडिल अनुमंडल के चौका थानाक्षेत्र के हेंसाकोचा निवासी नक्सली सुनील टुडू, रामू लोहरा, ईचागढ़ बारूडीह टोला पाटपुर के बुधराम मार्डी और चौका के बंसा, चुटियाखाल का श्रीराम मांझी शामिल है. इनकी निशानदेही पर घटना में इस्तेमाल की गई दो बाइक, मोबाइल फोन, घरों से लोकसभा चुनाव 19 के बहिष्कार के पोस्टर, शहीद पुलिसकर्मी युधिष्ठिर मलुवा का मोबाइल फोन और सिम बरामद किया गया है.

इस हत्याकांड के पीछे नक्सली महाराज प्रमाणिक दस्ता का हाथ था. घटना के बाद नक्सली पुलिस सी तीन इंसास और दो नाइन एमएम पिस्टल समेत कारतूस भी लूट कर ले गए थे. हर बाइक पर तीन-तीन नक्सली सवार थे. रेकी कर घटना को अंजाम दिया गया था.

यह जानकारी आदित्यपुर ऑटो क्लस्टर भवन के ऑडिटोरियम में शनिवार को पत्रकारों को सरायकेला-खरसावां के एसपी कार्तिक एस ने दी. एसपी ने कहा कि जल्द ही घटना में शामिल अन्य नक्सलियों की गिरफ्तारी होगी.

इन्हें मौत के घाट उतारा था

नक्सलियों ने घात लगाकर तिरुलडीह थाना के सहायक अवर निरीक्षक मनोधन हांसदा, गोवर्धन पासवान, जवान युधिष्ठिर मालुवा, धनेश्वर महतो और डिबरु पूर्ति की उस समय हत्या कर दी थी जब सभी सूमो वाहन से कुकडू हाट पहुंचे थे. सूमो चालक सुखलाल कुदादा ने भागकर जान बचाई थी.

अनल और महाराज प्रमाणिक ने बनाई थी योजना

एसपी कार्तिक एस ने बताया घटना की योजना संगठन के केंद्रीय कमेटी के सदस्य झारखंड के गिरिडीह जिले के निवासी और सरायकेला-खरसावां जिले में सक्रिय रमेश उर्फ अनल और चांडिल के ईचागढ़ दरौंदा के महाराज प्रमाणिक ने बनाई थी. इसके लिए बाकायदा अनल उर्फ रमेश ने कुकड़ू हाट में पुलिस की गतिविधि की रेकी करवाई थी.