DEHRADUN: उड़ीसा और अरुणाचल में बैठे ठगों ने दून के दो लोगों को ठग लिया. मामले में पांच ठगों ने दून पुलिस ने अरेस्ट कर लिया है. सोमवार को उन्हें कोर्ट में पेश कर जेल भेज ि1दया गया.

 

64 करोड़ की लॉटरी का झांसा

एक साल पहले साइबर क्राइम सेल में एक केस दर्ज किया गया था. जिसमें पीडि़त ने ठगों पर 64 करोड़ की लॉटरी निकलने का झांसा देकर 86 लाख रुपये ठगने का आरोप लगाया था. पीडि़त ने बताया था कि ये रकम उसने अलग-अलग खातों में जमा कराई थी. रकम जमा करने के बाद कॉलर्स से संपर्क ही नहीं हो पाया तो ठगी का पता चला. एसटीएफ ने जब बैंक खातों की पड़ताल की तो वे उड़ीसा के निकले. टीम उड़ीसा रवाना हुई जहां से दो आरोपियों को अरेस्ट किया गया. आरोपियों की पहचान सोमनाथ पुत्र लक्ष्मीधर साहू व अनिल कुमार बहेरा पुत्र गुरुचरण बहेरा निवासी कटक, उड़ीसा के रूप में हुई.

 

आरोपियों से यह बरामद

-4 पास बुक

-2 एटीएम

-4 मोबाइल

 

विदेश में संपत्ति का दिया झांसा

देहरादून निवासी संदीप कुमार (काल्पनिक नाम) को फर्जी कॉल आई कि आपके नाम का एशिया इन्टरनेशनल कार्ड बना हुआ है और आपको विदेश में संपत्ति दिलानी है, इसके लिए पहले आपको 38 लाख रुपये जमा करने होंगे. पीडि़त झांसे में आ गया और कॉलर्स द्वारा बताए गए अलग-अलग बैंक खातों में रकम जमा कर दी. कुछ समय तक जब कोई जवाब नहीं आया, तो पीडि़त ने एसटीएफ को घटना की जानकारी दी. एसटीएफ ने उन खातों की पड़ताल शुरू की जिनमें पीडि़त ने रकम जमा की थी, खाते अरुणाचल प्रदेश के निकले. पुलिस की टीम अरुणाचल प्रदेश रवाना हुई जहां से तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया. आरोपियों की पहचान विक्रम सिंघा पुत्र सुशील सिंघा, जोके बाघरा पुत्र टुजो बाघरा, नानी पुत्र नानी तटे अरुणाचल प्रदेश के नाम से हुई है.

 

 

दून में लॉटरी व संपत्ति दिलाने के नाम पर दो अलग-अलग मामलों में लाखों की ठगी हुई थी. दोनों मामलों ने पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इनमें दो उड़ीसा और तीन अरुणाचल प्रदेश से गिरफ्तार किये गए हैं.

अशोक कुमार, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर.

Posted By: Inextlive

Crime News inextlive from Crime News Desk