-मंगलवार को बीएसए ने टीचर को किया था टर्मिनेट

-ट्रेनिंग और ज्वाइनिंग में लगाई थी अलग-अलग डिग्री

KAUSHAMBI(19 Sept): बीटीसी की ट्रेनिंग और नौकरी की ज्वाइनिंग में अलग-अलग डिग्री लगाकर शिक्षा विभाग में टीचर करने वाले फ्राड के खिलाफ शनिवार को सराय अकिल पुलिस ने धोखाधड़ी और जालसाजी का केस दर्ज कर लिया है. पुलिस ने यह कार्रवाई बीएसए अशोक यादव की तहरीर पर की है.

जांच में हुआ खुलासा

प्राथमिक विद्यालय बेरौंचा में वर्ष 2014 में राकेश सिंह ने बतौर सहायक अध्यापक पोस्ट हुआ था. राकेश सराय अकिल थाने के मेडुआ सलेमपुर का रहने वाला है. राकेश के गांव में रहने वाले हीरेन्द्र सिंह ने उसकी नौकरी को चैलेंज किया था. शिक्षा विभाग के अफसरों और बीएसए अशोक कुमार से शिकायत कर हीरेन्द्र ने मामले की जांच कराने की मांग की. हीरेन्द्र का कहना था कि वर्ष 2010 में बीटीसी की काउंसलिंग कराने के दौरान हीरेन्द्र ने मथुरा के एक कॉलेज से हासिल की गई बीएससी की डिग्री लगाई थी. इसके बाद नौकरी ज्वाइन करने के दौरान उसने आगरा विश्वविद्यालय से ली बीए की डिग्री लगाई. बीएसए ने मामले में डायट प्राचार्य से दस्तावेज तलब कर जांच की तो वह फर्जी निकले. इस पर बीएसए ने पुलिस को तहरीर दी. शनिवार की शाम सराय अकिल पुलिस ने राकेश सिंह के खिलाफ आईपीसी 419, 420, 467, 468, 471 के तहत केस दर्ज कर लिया है.

मंगलवार को किया गया था टर्मिनेट

जांच के दौरान फर्जीवाड़े का खुलासा होने पर राकेश सिंह को बीएसए ने मंगलवार को ही बर्खास्त कर दिया था. प्रकरण की आगे की कार्रवाई के लिए खंड शिक्षाधिकारी को निर्देशित किया गया है.