मुंबई (पीटीआई)। भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर को एकदिवसीय प्रारूप में विराट कोहली से बेहतर माना है। सचिन को विराट से आगे रहने की वजह खेल के बदले हुए नियम हैं, जो सचिन के टाइम नहीं थे। 2013 में संन्यास ले चुके तेंदुलकर ने 463 एकदिवसीय मैच खेले और 44.83 के औसत से 18,426 रन बनाए जिसमें 49 शतक शामिल हैं। दूसरी ओर कोहली ने 248 वनडे खेले हैं और 59.33 के औसत से 43 शतक के साथ 11, 867 रन बनाए हैं।

कि्रकेट के इतने नियम बदले

स्टार स्पोर्ट्स के शो 'क्रिकेट कनेक्टेड' में गंभीर ने कहा, "वह विराट से बेहतर सचिन तेंदुलकर को मानते हैं, क्योंकि उनके समय सर्कल के अंदर एक सफेद गेंद और चार फील्डरों होते थे, पांच फील्डर नहीं इसलिए मैं सचिन को आगे रखूंगा।' आजकल, एक दिन की पारी दो सफेद गेंदों और तीन पावरप्ले के साथ खेली जाती है। पहले पावर प्ले (ओवर 1-10) में, दो फील्डरों को 30-यार्ड सर्कल से परे अनुमति दी जाती है, जबकि दूसरी पावरप्ले (ओवर 10-40) में चार फील्डरों को अनुमति दी जाती है। अंतिम पावरप्ले (40-50 ओवरों) में, 30-यार्ड सर्कल के बाहर पांच फील्डर्स की अनुमति है।

अब बैटिंग करना आसान

गंभीर, जो 2011 के एकदिवसीय विश्व कप फाइनल में स्टार परफॉर्मर थे, जिसे भारत ने जीता था, का मानना ​​है कि नियमों में बदलाव से बल्लेबाजों को मदद मिली है। गंभीर ने 58 टेस्ट और 147 एकदिवसीय मैच खेले, वह कहते हैं, "यह मुश्किल है क्योंकि विराट कोहली ने शानदार प्रदर्शन किया है, लेकिन मुझे लगता है कि नियमों में भी बदलाव हुआ है, जिससे नए बल्लेबाजों को काफी मदद मिली है। नई पीढ़ी, 2 नई गेंदों के साथ खेलती हैं। गेंदबाजों को कोई रिवर्स स्विंग नहीं, उंगली के स्पिन के लिए कुछ भी नहीं, 50 ओवरों के लिए पांच फील्डर, शायद बल्लेबाजी बहुत आसान है।

सचिन के समय का खेल अलग

उन्होंने कहा कि वह तेंदुलकर के साथ भी जाएंगे, उस समय का खेल अलग था। गौती ने कहा, 'शायद मैं सचिन तेंदुलकर के साथ जाऊंगा अगर हम एक दिवसीय क्रिकेट प्रारूप की बात करते हैं।' गंभीर ने कहा, "सचिन तेंदुलकर ने कैसे खेला है, उस समय 230 से 240 तक के स्कोर के मैच अलग होते थे।'

Posted By: Abhishek Kumar Tiwari

Cricket News inextlive from Cricket News Desk

inext-banner
inext-banner