-आठ दिन से लगातार सुबह और दोपहर को लगता था जाम

-छोटे वाहनों के लिए ओपन किया नया पुल

बरेली: बरेली-बीसलपुर रोड स्थित नकटिया नदी के पुल पर लगे जाम में तीन घंटा फंसे कई स्कूलों के बच्चों की न्यूज दैनिक जागरण आइनेक्स्ट में पब्लिश होने के बाद आखिर प्रशासन जाग गया. वेडनसडे को नकटिया नदी पर बना नया पुल हल्के चार पहिया वाहनों और टू-व्हीलर को निकलने के लिए ओपन कर दिया है. इससे स्टूडेंट्स के साथ ही इस रोड से गुजरने वाले लोगों को बड़ी राहत मिली. हालांकि पुल का अभी औपचारिक इनॉग्रेशन होना बाकी है, जिस कारण पुल पूरी तरह से चालू नहीं किया गया है.

डेली लगता था जाम

ज्ञात हो बीसलपुर रोड पर नकटिया नदी पर बने संकरे पुल से डेली आधा दर्जन स्कूल के बच्चे निकलते हैं. बरेली से बीसलपुर जाने के लिए मेन रोड भी यही है. इस कारण इस रोड पर वाहनों की संख्या अधिक रहती है. इसके चलते पुल पर जाम की समस्या बनी रहती थी. इसके चलते यहां नए पुल का निर्माण कराया जा रहा है. पुल की फिनिशिंग का काम चल रहा है लेकिन पुल निर्माण कर रही संस्था ने मिट्टी को पुराने पुल के आधे रास्ते में डाल दिया, जिससे करीब आठ दिन से लगातार सुबह और दोपहर में एक साथ निकलने वाले स्कूली वाहनों के कारण लंबा जाम लग जाता था. दो से तीन घंटे तक वाहन जाम में फंसे रहते थे. ट्रैफिक व्यवस्था दुरूस्त करने के लिए कोई ट्रैफिक कांस्टेबल या फिर होमगार्ड तक की ड्यूटी यहां नहीं लगाई गई थी. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट ने ट्यूजडे को '3 घंटा जाम में फंसे 6 स्कूलों के बच्चे' न्यूज पब्लिश की, जिसके बाद प्रशासन की नींद टूटी और समस्या का समाधान कराया.

टीआई और होमगार्ड की ड्यूटी

वेडनसडे को पुल को वन-वे कर शुरू कर दिया है. ताकि स्कूल जाने वाले बच्चों को जाम से निजात मिल सके. वहीं टू-वहीलर राइडर्स भी आसानी से निकल सकें. जाम न लगे इसके लिए एक टीआई और दो होमगार्ड की भी डयूटी लगा दी है.

Posted By: Inextlive