क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : शनिवार का दिन शहर के लिए बुरा रहा. बरियातू थाना क्षेत्र के चेशायर होम के पास एक छात्रा ने अपने ही घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. वहीं नामकुम रेलवे क्रॉसिंग के पास एक युवक ने कटकर जान दे दी. जानकारी के अनुसार, मृतक छात्रा श्रावणी सिंह के पिता सिंचाई विभाग से वर्ष 2009 में रिटायर हुए थे. वह किसी काम से भागलपुर गए थे. श्रावणी सिंह अपनी बूढ़ी मां के साथ ओंकार अपार्टमेंट में रहती थी. इधर, नामकुम रेलवे क्रॉसिंग के पास बरामद युवक के शव की शिनाख्त रोहित कुमार के रूप में हुई है, परिजनों ने बताया कि रोहित अपनी बाइक के साथ सुबह से ही गायब था. बरियातू थाना पुलिस ने छात्रा के सुसाइड मामले में यूडी केस दर्ज किया है.

लेगिंस के कपड़े से लगा ली फांसी

बरियातू इंस्पेक्टर अजय कुमार केशरी ने बताया कि गुरुवार को यूपीएससी पीटी परीक्षा का रिजल्ट निकला था. इस बार उसने भी एग्जाम दिया था. पीटी के रिजल्ट में खुद के सेलेक्ट नहीं होने पर वह आहत रहने लगी. उसकी मां ने पुलिस को बताया कि उस दिन से वह गुमशुम रहती थी. गुमशुम रहने के बाद अक्सर वह अपने कमरे में ही रहा करती थी. श्रावणी सिंह ने कमरे के गेट के अंदर लेगिंस के कपड़े से खुद को फांसी लगा लिया, जिससे उसकी मौत हो गई.

आईपीएस बनना चाहती थी श्रावणी

बरियातू थाना पुलिस को घटनास्थल पर कोई सुसाइडल नोट नहीं मिला. मृतक छात्रा श्रावणी सिंह के पिता सिंचाई विभाग से वर्ष 2009 में रिटायर्ड हुए थे. वे किसी काम से भागलपुर गए थे. श्रावणी सिंह अपनी बूढ़ी मां के साथ ही ओंकार अपार्टमेंट में रहती थी. उससे एक बड़ी बहन है, जो रायपुर में जॉब करती है और भाई भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहा है.

नहीं मिला है कोई सुसाइड नोट

परिजन ने इसकी सूचना पुलिस को दी. पुलिस मौके पर पहुंची और आवश्यक छानबीन की तथा शव को उतारकर पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेजी. कमरे से किसी भी तरह का कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.

एम. फिल की थी, सेंट्रल स्कूल में नौकरी हुई थी

परिजन के अनुसार श्रावणी ने एम. फिल किया था और सेंट्रल स्कूल में नौकरी भी हुई थी. लेकिन वह आइपीएस अधिकारी बनना चाहती थी. वह परीक्षा की तैयारी कर रही थी. सफलता नहीं मिलने से वह अक्सर परेशान रहती थी.