- मेरठ पहुंचे सीडब्लूजी ब्रांज मेडलिस्ट मो.असब ने कहा अब तैयारी व‌र्ल्ड चैंपियनशिप की

- 24 अगस्त से दिल्ली में लगेगा कैंप

nikhil.sharma@inext.co.in

Meerut: कॉमनवेल्थ गेम्स में शूटिंग के डबल ट्रैप इवेंट में ब्रांज जीतकर लौटे मेरठी शार्प शूटर मो. असब ने कहा कि अब नजरें व‌र्ल्ड शूटिंग चैंपियनशिप पर हैं, जिसमें वो अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हैं. आई नेक्स्ट के साथ असब ने खुलकर बातचीत की.

- कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल तो आ गया अब आगे की क्या प्लानिंग है?

- मैं खुश हूं कि सीडब्लूजी में ब्रांज मेडल जीता हूं. अब मुझे स्पेन में होने वाली व‌र्ल्ड शूटिंग चैंपियनशिप की तैयारी करनी है, जो सितंबर के पहले हफ्ते में स्पेन में होनी है. अगर मैं इस चैंपियनशिप में मेडल लाने में सफल रहा तो मुझे ओलंपिक कोटा मिल सकता है.

- चेंज रूल्स से भी फर्क पड़ा है?

- पहले क्वालीफाई राउंड का स्कोर फाइनल में एड होता था, लेकिन अब रूल्स चेंज हुए हैं, तो सेमीफाइनल में जीरो से शुरुआत करनी होती है. ऐसे में अगर पुराने रुल्स होते तो मैं गोल्ड मेडल लेकर लौटता.

- चैंपियनशिप के लिए कैसे तैयारियां करेंगे?

- जी हां, अभी तो मैं फिलहाल आराम करूंगा, लेकिन ख्ब् अगस्त से दिल्ली की कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में भारतीय टीम का कैंप लग रहा है, इसके बाद इटली में भी चैंपियनशिप की तैयारियों के मद्देनजर जाना है.

- एशियन गेम्स भी हैं अक्टूबर में, क्या सोचा है?

- बेशक ये भी बड़े गेम्स हैं. इसमें मुझे खुद को सिद्ध करना है. यहां भी मैं जरूर मेडल लेकर लौटूंगा और अपने देश का नाम रोशन करूंगा.

- भारतीय टीम में कोई एक्सपर्ट कोच नहीं है, क्या कहना है?

- सरकार ने विदेशी कोच तो हायर किया है, लेकिन अगर कोच राज्यवर्धन सिंह राठौर होते तो बेहतर हो सकता था, लेकिन वो अब सांसद बन गए हैं, तो उनकी फिल्ड चेंज हो गई है.

- फाइनल में पहुंचने से जब चूके तो मन में क्या था?

- सच कहूं तो मैं गलती से ही मिस कर गया. मैं दूसरे टारगेट तक नहीं पहुंच सका था, लेकिन बस मन में था कि अब ब्रांज तो अपने देश लेकर ही लौटना है.