-मसीही समुदाय ने श्रद्धा से मनाया गुड फ्राइडे, चर्चेज में स्पेशल प्रेयर का हुआ आयोजन

-निकाली गयी क्रूसयात्रा, नम आंखों से शामिल हुए बड़ी संख्या में मसीही समुदाय के लोग

varanasi@inext.co.in

VARANASI: हजारों साल पहले इंसानियत के दुश्मनों ने प्रभु यीशु को क्रूज पर लटका दिया था. उस दिन की याद आज भी लोगों को उतना ही दर्द देती है. प्रभु यीशु में आस्था रखने वालों ने शुक्रवार को एक बार फिर उसी दर्द को महसूस किया. कभी न भुलाये जाने वाली उस घटना को याद करते हुए मसीही समुदाय के लोगों ने गुड फ्राइडे को पूरी श्रद्धा से मनाया. इस अवसर पर चर्चेज में स्पेशल प्रेयर का आयोजन हुआ. अलग-अलग चर्चेज में हुई प्रार्थना सभाओं में पादरियों ने यीशु को सूली पर चढ़ाए जाने के दौरान उनके द्वारा दिये गए सात वचनों का संदेश सुनाया.

भक्ति गीतों का भी आयोजन

कैंटोनमेंट स्थित सेंट मैरिज चर्च में शुक्रवार को हजारों साल पहले हुए इस क्रूर घटना की क्रूसयात्रा निकाली गयी. यात्रा में शामिल हर किसी की आंख इस मौके पर नम हो उठी. क्रूसयात्रा में शामिल लोगों ने प्रभु यीशु को क्रूस पर लटकाये जाने के दौरान दी गई यातनाओं को पूरी शिद्दत से महसूस किया. यात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए. विशेष भक्ति गीतों का भी आयोजन किया गया.

नौ बजे लटकाया गया था प्रभु को

गुड फ्राइडे के अवसर पर तेलियाबाग चर्च, सेंटपाल चर्च सिगरा, सेंट थामस चर्च गोदौलिया, चर्च ऑफ बनारस पिलग्रिम्स मिशन, बेथेल फुल गास्पल महमूरगंज, सुंदरपुर चर्च आदि में भी हुए प्रेयर में प्रभु यीशु के वचनों का पाठ हुआ. विजेता प्रेयर मिनिस्ट्रीज के पास्टर एसपी सिंह ने बताया कि गुड फ्राइडे के दिन गोलगाता की पहाड़ी पर खोपड़ी नामक स्थान पर प्रभु यीशु को क्रूस पर लटकाया गया था. नौ बजे प्रभु को क्रूस पर लटकाया गया और क्ख् बजे तक उन्होंने तीन संदेश दिये. उसके बाद तीन बजे उन्होंने अपनी अंतिम सांस ली. इस दौरान उन्होंने चार वचन कहे.

रविवार को जी उठेंगे यीशु

रविवार को प्रभु यीशु जी उठेंगे. मसीही समुदाय के लोग प्रभु के जी उठने की खुशियां मनायेंगे. चर्चेज में प्रेयर का आयोजन होगा. लोग एक दूसरे को ईस्टर खिलाकर शुभकामनाएं देंगे. चर्चेज को आकर्षक रूप से सजाया जायेगा. भोर में लोग अपने हाथों में कैंडिल लेकर गीत गाते हुए चर्च की ओर जायेंगे.